गाजर की कांजी – ताजगी भरा गाजर का शरबत – 16 फरवरी 2013

पाक कला

मैंने आपसे कहा था कि गाजर का मौसम समाप्त होने से पहले मैं एक और गाजर का पकवान बनाने की विधि बताऊंगा। इसलिए आज आपको मैं गाजर और सरसों के बीजों से तैयार किया जाने वाला एक स्वादिष्ट पेय बनाने की विधि बताने जा रहा हूँ: गाजर की कांजी। इसे कई तरह से बनाया जा सकता है। कुछ लोग स्वाद और रंग के लिए इसमें चुकंदर मिलाते हैं; कुछ लोग कई और मसाले मिलाकर इसमें स्वाद पैदा करते हैं। मगर मैं इसका सबसे आसान और सादा तरीका बता रहा हूँ, जिसे मैं पसंद करता हूँ और हमारे आश्रम में ज़्यादातर बनाया भी जाता है।

गाजर की कांजी – ताज़गी भरा गाजर का शरबत

ताज़गी से भरपूर एक स्वास्थ्यवर्धक पेय, जिसे कभी भी लिया जा सकता है और मेहमानों को पेश करने के लिए तो यह एक खास तरह का शरबत है!

गाजर की कांजी बनाने में कितना वक़्त लगता है?

तैयारी करने में:
पकाने में:
कुल समय:

कांजी का पूरा स्वाद (फ्लेवर) आने में थोड़ा वक़्त लगता है-उसे एक या दो दिन पहले बनाकर रखें तो उसका स्वाद और बढ़ जाता है!

सामग्री

500 ग्राम गाजर
50 ग्राम काली सरसों
30 ग्राम नमक
1.5 लीटर पानी

गाजर की कांजी कैसे बनाएँ

गाजर अच्छे से धो लें और दोनों किनारों से थोड़ा सा हिस्सा निकालकर उन्हें छील लें। उसके बाद गाजर के उंगली के बराबर टुकड़े काट लें। उन्हें लंबाई में पतले आकार में तब तक काटें जब तक टुकड़ों की मोटाई एक सेंटीमीटर न हो जाए। यानी अगर आपकी गाजर पतली है तो उसे बार-बार काटने की ज़रूरत नहीं होगी जब कि मोटी गजरों को कई बार लंबाई में काटना होगा।

थोड़ा सा पानी उबालकर उसमें गाजर के टुकड़े डाल दें। पाँच मिनट उन्हें उबलते पानी में छोड़ देने पर वे थोड़े मुलायम हो जाएंगे। उन्हें इतना सख्त होना चाहिए कि दबाने पर बिखर न जाएँ और चबाने में दिक्कत भी न हो।

इधर गाजर उबल रही है तब तक आप सरसों को पीसकर उसका पाउडर बना लें।

गाजर पर्याप्त मुलायम हो जाने पर उसे पानी से बाहर निकालकर एक बड़े बर्तन में रखें। उसमें सरसों का पाउडर, नमक और पानी डालकर ठीक से मिला लें। बरतन का ढक्कन बंद करके या उसे एक प्लेट से ढँककर अलग रख दें।

उचित होगा कि कांजी को एक या दो दिन के लिए वैसे ही छोड़ दें जिससे गाजर कुछ पानी सोख ले और पानी में भी गाजर और सरसों का स्वाद उतर आए। जब गाजर और सरसों के इस मिश्रण का मज़ेदार स्वाद पानी में आ जाए तब आप उसका मज़ा ले सकते हैं-भोजन के साथ, नाश्ते के साथ या जब आप चाहें! मेहमानों के स्वागत में भी इस खास शरबत को पेश किया जा सकता है!

Leave a Comment