महज़ बुजुर्ग होना आपको बुद्धिमान नहीं बनाता इसलिए थोड़ी नम्रता प्रदर्शित कीजिए! 22 सितम्बर 2014

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे कुछ बुज़ुर्ग नवयुवकों को मूर्ख समझते हैं और उनके साथ रूखा और अशिष्ट व्यवहार करते हैं।

Continue Readingमहज़ बुजुर्ग होना आपको बुद्धिमान नहीं बनाता इसलिए थोड़ी नम्रता प्रदर्शित कीजिए! 22 सितम्बर 2014

अपने बच्चों को स्वाभिमानी वयस्क बनाइए – उन्हें ‘नहीं’ कहना सिखाइए! 14 अप्रैल 2014

स्वामी बालेंदु एक विशेष परिस्थिति की चर्चा कर रहे हैं, जिसके सामने आने पर वे अपनी बेटी को ‘नहीं’ कहना सिखाना चाहेंगे: जब कोई अजनबी इतना करीब आने लगे कि उसे असुविधा महसूस हो।

Continue Readingअपने बच्चों को स्वाभिमानी वयस्क बनाइए – उन्हें ‘नहीं’ कहना सिखाइए! 14 अप्रैल 2014

यदि भारतीय पुरुष चाहते हैं कि उन्हें एक संभावित बलात्कारी न समझा जाए तो उन्हें क्या परिवर्तन लाने होंगे! 28 जनवरी 2014

स्वामी बालेंदु भारतीय पुरुषों को सलाह दे रहे हैं के वे अपने भीतर परिवर्तन लाएं। वे उन्हें यौन उत्पीड़न और बलात्कार आदि के विषय में पढ़ने का आग्रह करते हुए महिलाओं का सम्मान करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं!

Continue Readingयदि भारतीय पुरुष चाहते हैं कि उन्हें एक संभावित बलात्कारी न समझा जाए तो उन्हें क्या परिवर्तन लाने होंगे! 28 जनवरी 2014

क्या करें, जब आस्थाओं और रुचियों की विभिन्नता के चलते आपकी मित्रता में अपेक्षित अंतरंगता नहीं हो पाती? 17 दिसंबर 2013

स्वामी बालेंदु समझा रहे हैं कि कैसे रुचि और विचार भिन्न होने के बावजूद और बात करने के लिए कोई विषय न हो तब भी आप मित्रता कायम रख सकते हैं।

Continue Readingक्या करें, जब आस्थाओं और रुचियों की विभिन्नता के चलते आपकी मित्रता में अपेक्षित अंतरंगता नहीं हो पाती? 17 दिसंबर 2013

कई प्राचीन परंपराएँ आपके सम्मान की हकदार नहीं हैं! – 13 मई 2013

स्वामी बालेंदु उन लोगों को जवाब दे रहे हैं जो उन पर आरोप लगाते हैं कि भारतीय परंपराओं पर उनकी कोई आस्था नहीं है और वे उनका निरादर करते हैं। अपनी बात को पुनः रेखांकित करते हुए वे बता रहे हैं कि किस आधार पर वे ऐसा करते हैं।

Continue Readingकई प्राचीन परंपराएँ आपके सम्मान की हकदार नहीं हैं! – 13 मई 2013

नशे के आदी बच्चों के माता-पिता क्या करें – 11 दिसम्बर 08

स्वामी जी ने उन बच्चों और किशोरों के बारे में लिखा है जो स्मोकिंग और ड्रिकिंग शुरू कर देते हैं। यह इस तरह क्यों है और माता-पिता क्या कर सकते हैं।

Continue Readingनशे के आदी बच्चों के माता-पिता क्या करें – 11 दिसम्बर 08

बदलाव चाहते हैं तो पहले स्वयं को बदलिए – 7 नवम्बर 08

Swami Ji writes about acceptance in relationships. Do not expect your partner to change if you cannot change yourself.

Continue Readingबदलाव चाहते हैं तो पहले स्वयं को बदलिए – 7 नवम्बर 08

रिश्ते का स्वरूप न बदलें 6 नवम्बर 08

रिश्तों के विषय में लिखते हुए स्वामी जी बताते हैं कि दोनों संबंधित पक्षों को एक दूसरे की इच्छाओं का आदर करना चाहिए । यही कुंजी है रिश्ते की मधुरता की|

Continue Readingरिश्ते का स्वरूप न बदलें 6 नवम्बर 08