Tag: भक्ति

जब एक राजनेता के प्रति अपने समर्पण और भक्ति को पुरानी मित्रता से अधिक महत्व दिया जाता है -15 फरवरी 2015
जब एक राजनेता के प्रति अपने समर्पण और भक्ति को पुरानी मित्रता से अधिक महत्व दिया जाता है -15 फरवरी 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे एक राजनैतिक नेता की आलोचना करने के कारण ... Read More
श्रद्धा से नहीं, पैसे के लिए मंत्र-जाप और कीर्तन - 7 अप्रैल 2014
श्रद्धा से नहीं, पैसे के लिए मंत्र-जाप और कीर्तन – 7 अप्रैल 2014
स्वामी बालेंदु अपने स्कूली बच्चों के कुछ अभिभावकों के काम के बारे में जानकारी दे ... Read More
अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव - 3 अप्रैल 2013
अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव – 3 अप्रैल 2013
स्वामी बालेन्दु लिखते हैं कि किस तरह हिन्दू धर्म में किस तरह गुरुवाद को बढ़ावा ... Read More
धर्म की सूक्ष्म चालबाज़ियाँ आपको पागलपन की सरहद पर ला पटकती हैं! 11 सितंबर 2012
धर्म की सूक्ष्म चालबाज़ियाँ आपको पागलपन की सरहद पर ला पटकती हैं! 11 सितंबर 2012
स्वामी बालेंदु धार्मिक समर्पण के विषय में लिख रहे हैं जो लोगों को ऐसे-ऐसे काम ... Read More
बेवफाई करेंगें लेकिन खुद ज़ख्म बर्दाश्त नहीं करना चाहते – 20 नवम्बर 08
बेवफाई करेंगें लेकिन खुद ज़ख्म बर्दाश्त नहीं करना चाहते – 20 नवम्बर 08
स्वामी जी उन लोगों के बारे में लिखते हैं जो प्रेमसंबंधों में धोखा देते हैं ... Read More
बदलाव चाहते हैं तो पहले स्वयं को बदलिए - 7 नवम्बर 08
बदलाव चाहते हैं तो पहले स्वयं को बदलिए – 7 नवम्बर 08
Swami Ji writes about acceptance in relationships. Do not expect your partner to change if ... Read More