धार्मिक परम्पराएँ शिष्यों को गुरुओं के अपराधों पर पर्दा डालने पर मजबूर करती हैं-12 सितंबर 2013

स्वामी बालेंदु समझा रहे हैं की कैसे धर्म शिष्यों को आदेश देता है कि न सिर्फ वे उनकी आँखों के सामने किए जा रहे गुरुओं के अपराधों की अनदेखी करें बल्कि दूसरों को भी उसके खिलाफ बोलने की इजाज़त न दें!

Continue Readingधार्मिक परम्पराएँ शिष्यों को गुरुओं के अपराधों पर पर्दा डालने पर मजबूर करती हैं-12 सितंबर 2013

भक्तों की दुविधा: गुरु के अपराधों को जानते हैं मगर मानते नहीं- 11 सितंबर 2013

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि जब किसी गुरु के गुनाहों की पोल खुल जाती है तब उसके चेलों की क्या हालत होती है: जानते हैं कि गुरु दोषी है मगर मान नहीं पाते!

Continue Readingभक्तों की दुविधा: गुरु के अपराधों को जानते हैं मगर मानते नहीं- 11 सितंबर 2013

गुरु की वासना-शांति के लिए लड़कियां मुहैया कराना, आँख मूंदकर उसके अपराध के भागीदार बनना-10 सितंबर 2013

स्वामी बालेंदु आसाराम के कट्टर अनुयायियों के बारे में बता रहे हैं जो अपने गुरु को खुश करने के लिए बड़ा से बड़ा अपराध करने से भी नहीं झिझकते।

Continue Readingगुरु की वासना-शांति के लिए लड़कियां मुहैया कराना, आँख मूंदकर उसके अपराध के भागीदार बनना-10 सितंबर 2013

आसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता को रिश्वत का प्रयास, मारने की धमकी के बावजूद सराहनीय है मजबूती-9 सितंबर 13

स्वामी बालेंदु आसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता की स्थिति की विवेचना कर रहे हैं। वे किसी पर भी विश्वास करने के काबिल नहीं रह गए हैं

Continue Readingआसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता को रिश्वत का प्रयास, मारने की धमकी के बावजूद सराहनीय है मजबूती-9 सितंबर 13

प्राचीन काल से लेकर आधुनिक रॉक स्टार गुरुओं तक का विकास- 23 जुलाई 2013

स्वामी बालेंदु उस क्रमिक विकास का विवरण दे रहे हैं जिसके अनुसार पारंपरिक गुरुओं में क्रमशः परिवर्तन आया और आज वे विशाल संख्या में मौजूद अपने प्रशंसकों के सामने स्टेज शो करते हुए किसी रॉक स्टार जैसे लगते हैं।

Continue Readingप्राचीन काल से लेकर आधुनिक रॉक स्टार गुरुओं तक का विकास- 23 जुलाई 2013

अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव – 3 अप्रैल 2013

स्वामी बालेन्दु लिखते हैं कि किस तरह हिन्दू धर्म में किस तरह गुरुवाद को बढ़ावा दिया गया है और उसके क्या दुष्परिणाम होते हैं|

Continue Readingअपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव – 3 अप्रैल 2013

श्री श्री रविशंकर पर लिखने के बाद प्रशंसा , अपशब्दों एवं चेतावनियों का लेखा – जोखा – 22 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु लिखते हैं उन प्रतिक्रियाओं के बारे में जो उन्हें मिली श्री श्री रविशंकर और आर्ट ऑफ लिविंग के बारे में अपनी डायरी में लिखने के बाद|

Continue Readingश्री श्री रविशंकर पर लिखने के बाद प्रशंसा , अपशब्दों एवं चेतावनियों का लेखा – जोखा – 22 फरवरी 13

ईश्वर की तरह ‘सर्वज्ञ’ श्री श्री रविशंकर को चायपत्ती क्यों चुरानी पड़ी – 21 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु एक और कहानी का पर्दाफाश करते हैं जिसमें श्री श्री रविशंकर दावा करते हैं कि वह सर्वज्ञ हैं। पढ़िए कि कैसे वह चायपत्ती का पैकेट चुराने को वाज़िब ठहरा रहे हैं|

Continue Readingईश्वर की तरह ‘सर्वज्ञ’ श्री श्री रविशंकर को चायपत्ती क्यों चुरानी पड़ी – 21 फरवरी 13

श्री श्री रविशंकर की अपील – सोचो मत, मेरे पीछे चले आओ! – 20 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु श्री श्री रविशंकर और उनकी संस्था आर्ट ऑफ लिविंग का एक विज्ञापन उजागर किया है जिसमें वह लोगों से कहते हैं ‘ सोचो मत, अभी आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्य बन जाओ|

Continue Readingश्री श्री रविशंकर की अपील – सोचो मत, मेरे पीछे चले आओ! – 20 फरवरी 13

श्री श्री रविशंकर ने बिना समय गंवाए हटा दी अपनी चमत्कारी शक्तियों की कहानी – 19 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु श्री श्री रविशंकर की त्वरित प्रतिक्रिया के बारे में लिखते हैं। स्वामी बालेंदु ने उनके चमत्कार की इस झूठी कहानी का पर्दाफाश किया था कि किस प्रकार उनके भक्त उनकी तस्वीर के सामने रखकर अपना मोबाइल फोन चार्ज कर सकते हैं|

Continue Readingश्री श्री रविशंकर ने बिना समय गंवाए हटा दी अपनी चमत्कारी शक्तियों की कहानी – 19 फरवरी 13