Tag: भाग्य/नियति

नास्तिक दूसरों की सहायता करने के लिए अच्छे काम करते हैं, पुण्य कमाने के लिए नहीं - 29 जुलाई 2015
नास्तिक दूसरों की सहायता करने के लिए अच्छे काम करते हैं, पुण्य कमाने के लिए नहीं – 29 जुलाई 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि नास्तिक अच्छा काम इसलिए करते हैं क्योंकि वे सोचते ... Read More
कर्म सिद्धान्त के अनुसार नेपाल के भूकंप पीड़ित सहायता के पात्र नहीं हैं - 29 अप्रैल 2015
कर्म सिद्धान्त के अनुसार नेपाल के भूकंप पीड़ित सहायता के पात्र नहीं हैं – 29 अप्रैल 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों कर्म-सिद्धान्त पर विश्वास करने वालों को अपने दर्शन ... Read More
"'ईश्वर महज अपना काम कर रहा है" - धार्मिक आस्थावानों का नेपाल के भूकंप पर स्पष्टीकरण - 28 अप्रैल 2015
"’ईश्वर महज अपना काम कर रहा है" – धार्मिक आस्थावानों का नेपाल के भूकंप पर स्पष्टीकरण – 28 अप्रैल 2015
प्रार्थनाओं पर लिखे गए अपने ब्लॉग पर आई टिप्पणी पर स्वामी बालेन्दु प्रतिक्रिया व्यक्त कर ... Read More
अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव - 3 अप्रैल 2013
अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव – 3 अप्रैल 2013
स्वामी बालेन्दु लिखते हैं कि किस तरह हिन्दू धर्म में किस तरह गुरुवाद को बढ़ावा ... Read More
मंगलवार को भगवान आपकी रक्षा करते हैं - बेवकूफाना अंधविश्वास! - 5 मार्च 13
मंगलवार को भगवान आपकी रक्षा करते हैं – बेवकूफाना अंधविश्वास! – 5 मार्च 13
स्वामी बालेंदु बताते हैं कि कई लोग इस बात पर हैरान हैं कि उनके मित्र ... Read More
कर्म का सिद्धांत लोगों को अपनी जिम्मेदारियों से भागने की सुविधा प्रदान करता है - 05 फरवरी 2013
कर्म का सिद्धांत लोगों को अपनी जिम्मेदारियों से भागने की सुविधा प्रदान करता है – 05 फरवरी 2013
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि किस तरह कर्म का सिद्धांत (धार्मिक) लोगों को धर्म ... Read More
धर्म में विरोधाभास - पिछले जन्मों के कर्म आपके पास हैं या नहीं? - 4 फरवरी 2013
धर्म में विरोधाभास – पिछले जन्मों के कर्म आपके पास हैं या नहीं? – 4 फरवरी 2013
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि धर्म ने अपना लचीलापन बनाए रखते हुए किस तरह ... Read More
मुक्ति या स्वर्ग? अपने कर्म के दर्शन से हिन्दू धर्म लोगों को भ्रमित करता है! - 1 फरवरी 2013
मुक्ति या स्वर्ग? अपने कर्म के दर्शन से हिन्दू धर्म लोगों को भ्रमित करता है! – 1 फरवरी 2013
स्वामी बालेंदु कर्म के दर्शन के बारे में बता रहे हैं। साथ ही वे पूछना ... Read More
कर्म के तीन प्रकार-संचित,प्रारब्ध एवं क्रियमाण - 14 May 08
कर्म के तीन प्रकार-संचित,प्रारब्ध एवं क्रियमाण – 14 May 08
Excerpt of Swami Ji?s lecture about the eastern philosophy of the three Karmas: Sanchit, Prarabhdh ... Read More