Home > Category: Hindi

सिर्फ रहने के स्थान के बदले में दिन भर मजदूरी करना – हमारे स्कूल के बच्चे – 22 जनवरी 2016

परोपकार

स्वामी बालेंदु अपने पाठकों का परिचय अपने स्कूल के दो बच्चों से करवा रहे हैं। उनकी माँ एक विशाल घर में नौकरानी का काम करती है-बदले में उन्हें घर से लगा हुआ एक रिहाइशी फ्लैट मिला हुआ है।

चार हफ्ते में 14 किलो – हमारे योग-आयुर्वेद-शिविर के वज़न घटाओ कार्यक्रम की सफलता की कहानी – 21 जनवरी 2016

स्वास्थ्य

स्वामी बालेंदु उनके योग-आयुर्वेद-शिविर के वज़न घटाओ कार्यक्रम में शरीक होने वाले एक व्यक्ति के बारे में बता रहे हैं जिसने अपना वज़न घटाने में बड़ी सफलता प्राप्त की: चार सप्ताह में उसका 14 किलो वज़न कम हुआ! कैसे? यहाँ पढ़िए!

कंप्यूटर आपके जीवन को आसान बना सकते हैं, अगर वे ठीक तरह से काम करते रहें! 20 जनवरी 2016

तकनीक

कंप्यूटर के साथ पेश आई समस्याओं पर लिखते हुए स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे उसे ठीक करने में उसका काफी समय ज़ाया हुआ!

मोनिका अपनी अंतिम बड़ी शल्यक्रिया के लिए तैयार है – 19 जनवरी 2016

परोपकार

स्वामी बालेंदु निकट भविष्य में होने वाली मोनिका की तीसरी शल्यक्रिया के बारे में लिख रहे हैं। मोनिका उनके स्कूल में पढ़ने वाली वही लड़की है, जो एक हादसे में बुरी तरह जल गई थी।

क्यों भारतीय युवा अपने माता-पिता से झूठ बोलते हुए ज़रा सा भी नहीं झिझकते? 18 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेंदु भारतीय युवक-युवतियों की, विशेषकर महानगरों में रहने वाली युवतियों की एक परिस्थितिजन्य आदत के बारे में लिख रहे हैं, जिसके चलते वे निस्संकोच अपने अभिभावकों से झूठ बोलते हैं-क्योंकि वे अपनी परंपराओं का पालन नहीं करते!

दुनिया भर के राजाओं की एक सी रुचियाँ: पैसा, युद्ध और औरतें – 17 जनवरी 2016

मेरा जीवन

स्वामी बालेंदु अपनी पारिवारिक जयपुर यात्रा के बारे में लिख रहे हैं, जहाँ उन्होंने प्राचीन राजा-महाराजाओं के महलों, किलों और विलासिताओं की जानकारी प्राप्त की। उनकी रोमांचक यात्रा के बारे में यहाँ पढ़ें।

गट्टे की कढ़ी – पीली, खट्टी तरी में बेसन के गट्टे – 16 जनवरी 2016

पाक कला

स्वामी बालेंदु गट्टे की कढ़ी बनाने की विधि लिख रहे हैं, जिसे स्वादिष्ट, खट्टे सालन में तले हुए बेसन के गट्टे मिलाकर तैयार किया जाता है और जिसे गर्मागर्म खाने पर उसका स्वाद द्विगुणित हो जाता है!

जब एक नाई लड़का पैदा करने के चक्कर में पाँच-पाँच बच्चे पैदा कर देता है – हमारे स्कूल के बच्चे – 15 जनवरी 2016

परोपकार

स्वामी बालेंदु एक नाई की बेटी, मोहिनी का परिचय अपने पाठकों से करवा रहे हैं, जो उनके चैरिटी स्कूल में पढ़ने आती है क्योंकि उसका पिता उसे और उसकी चार सहोदर बहनों को आर्थिक कारणों से किसी दूसरे स्कूल में भेजने में असमर्थ है।

भारत में महिलाओं के जीवनों में तब्दीली आ रही है लेकिन वहाँ नहीं, जहाँ कि सबसे अधिक ज़रूरत है – 14 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेन्दु भारत के महानगरों के बारे में लिख रहे हैं जहाँ, कोई सोच सकता है कि, लोगों के विचारों में भी आधुनिक जीवन का प्रवेश हो चुका होगा लेकिन मंज़िल अभी बहुत दूर है!

क्या आप भी सोचते हैं कि ‘शादी से पहले सेक्स नहीं’ – 13 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे बहुत से नैतिक मूल्यों की जड़ में पुरानी, दक़ियानूसी परंपराएँ हैं, जिन्हें अब उचित नहीं माना जा सकता-इसलिए वे अब हमारे व्यवहार और विचारों को निर्देशित नहीं कर सकते!

12