दूसरी संस्कृतियों के बारे में त्वरित अनुमान न लगाएँ – पहले उसे ठीक से जान लें! – 29 मई 2013

स्वामी बालेंदु लोगों को आगाह कर रहे हैं कि थोड़े समय घूम-फिरकर किसी देश के बारे में अंतिम निष्कर्ष पर न पहुँचें। उनकी नज़रों से गुजरे कुछ गलत निष्कर्षों के कुछ उदाहरण यहाँ पढ़ें।

Continue Readingदूसरी संस्कृतियों के बारे में त्वरित अनुमान न लगाएँ – पहले उसे ठीक से जान लें! – 29 मई 2013