क्या करें जब असुरक्षा की भावना से पीड़ित लोग आपको नीचा दिखाने की कोशिश करें? 18 नवंबर 2015

स्वामी बालेंदु एक ऐसे व्यक्ति का खाका खींच रहे हैं, जो मूलतः असुरक्षाग्रस्त होता है और दूसरों को नीचा दिखाकर अपने अहं को संतुष्ट करता है।

Continue Readingक्या करें जब असुरक्षा की भावना से पीड़ित लोग आपको नीचा दिखाने की कोशिश करें? 18 नवंबर 2015

अहं के चलते आपसी संबंधों में आने वाली समस्याओं से कैसे निपटें – 29 अक्टूबर 2015

स्वामी बालेंदु संबंधों में अहं की नकारात्मक भूमिका के विषय में लिखते हुए बता रहे हैं कि कैसे वह अक्सर बहुत सी समस्याओं का कारण बनता है और कैसे अपने साथी के सामने उस पर काबू पाया जा सकता है।

Continue Readingअहं के चलते आपसी संबंधों में आने वाली समस्याओं से कैसे निपटें – 29 अक्टूबर 2015

माफ़ कीजिए, पुरस्कार पाने के लिए मैं एक पैसा भी खर्च नहीं करूँगा – 17 मई 2015

स्वामी बालेन्दु पुरस्कार प्राप्त करने के एक आमंत्रण की चर्चा कर रहे हैं-और बता रहे हैं कि क्यों आखिर उन्हें वह पुरस्कार प्राप्त नहीं हुआ और क्यों वे इस विषय पर यह ब्लॉग लिख रहे हैं!

Continue Readingमाफ़ कीजिए, पुरस्कार पाने के लिए मैं एक पैसा भी खर्च नहीं करूँगा – 17 मई 2015

अगर आपको भी सरल सामान्य बातों को बढ़ा-चढ़ाकर दुःसाध्य प्रदर्शित करने की आदत है तो इसे अवश्य पढ़ें – 14 अप्रैल 2015

स्वामी बालेन्दु उन लोगों की चर्चा कर रहे हैं, जो छोटे-मोटे और आसान काम को भी इस तरह प्रस्तुत करते हैं जैसे वह बहुत बड़ा, बहुत मुश्किल या लगभग असम्भव काम हो!

Continue Readingअगर आपको भी सरल सामान्य बातों को बढ़ा-चढ़ाकर दुःसाध्य प्रदर्शित करने की आदत है तो इसे अवश्य पढ़ें – 14 अप्रैल 2015

धार्मिकों की एक जैसी मानसिकता: मैं ठीक हूँ, आप गलत हैं – 9 फरवरी 2015

ऊपर से अत्यंत नम्र दिखाई देने वाले बहुत से धार्मिकों के भीतर मौजूद अहंकार और उद्दंडता के बारे में स्वामी बालेंदु अपने विचार लिख रहे हैं।

Continue Readingधार्मिकों की एक जैसी मानसिकता: मैं ठीक हूँ, आप गलत हैं – 9 फरवरी 2015

जब मैं पारंपरिक विवाह समारोह में शिरकत करता हूँ तो क्या मैं दहेज प्रथा का समर्थन करता हूँ? 25 दिसंबर 2014

स्वामी बालेंदु एक दहेज प्रथा विरोधी भारतीय के इस सवाल का जवाब दे रहे हैं क्या उसे पारंपरिक विवाहों से दूर रहना चाहिए।

Continue Readingजब मैं पारंपरिक विवाह समारोह में शिरकत करता हूँ तो क्या मैं दहेज प्रथा का समर्थन करता हूँ? 25 दिसंबर 2014

ध्यान-योग कोई रहस्य नहीं है लेकिन परेशानी यह है कि आप ऎसी चीज़ नहीं बेच सकते, जो सबको उपलब्ध हो-13 नवंबर 2013

स्वामी बालेंदु ध्यान-योग की अपनी परिभाषा प्रस्तुत कर रहे हैं और समझा रहे हैं कि क्यों यह परिभाषा आम तौर पर इस्तेमाल नहीं की जाती। इसके पीछे छिपे व्यापार को समझने के लिए पढ़ें!

Continue Readingध्यान-योग कोई रहस्य नहीं है लेकिन परेशानी यह है कि आप ऎसी चीज़ नहीं बेच सकते, जो सबको उपलब्ध हो-13 नवंबर 2013

अहं के साथ संघर्ष – स्वयं के साथ एक लगातार कशमकश? 2 अक्तूबर 2013

स्वामी बालेंदु अहं की अति से जूझते लोगों की समस्याओं के बारे में बता रहे हैं-वे बार-बार उसके विरुद्ध संघर्ष में परास्त होते हैं और साधारण मामलों को भी अपनी प्रतिष्ठा का विषय बना लेते हैं।

Continue Readingअहं के साथ संघर्ष – स्वयं के साथ एक लगातार कशमकश? 2 अक्तूबर 2013

अभी-अभी आपके अहं पर चोट हुई है और अब आपको प्रतिक्रया देना है- आप क्या करेंगे? 1 अक्तूबर 2013

स्वामी बालेंदु अहं के चलते हड़बड़ी में की जाने वाली प्रतिक्रियाओं के बारे में समझा रहे हैं कि कैसे वह आपको मुसीबत में डाल सकती हैं। उनसे कैसे पार पाएँ-बल्कि, उनसे कैसे बचें?

Continue Readingअभी-अभी आपके अहं पर चोट हुई है और अब आपको प्रतिक्रया देना है- आप क्या करेंगे? 1 अक्तूबर 2013

अहंकार – कोई नहीं चाहता मगर सबके पास होता है- 30 सितंबर 2013

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों सबके पास अहं होता है मगर वह उसके बारे में जब भी बात करता है उनके सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं की बात करता है।

Continue Readingअहंकार – कोई नहीं चाहता मगर सबके पास होता है- 30 सितंबर 2013