Tag: कार्य

स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है - 10 दिसंबर 2015
स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है – 10 दिसंबर 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे लैंगिक भूमिकाओं को स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों ज़िंदा ... Read More
मुफ्त सुविधाओं का लाभ उठाते हुए आर्थिक बराबरी का उपदेश - 25 नवम्बर 2015
मुफ्त सुविधाओं का लाभ उठाते हुए आर्थिक बराबरी का उपदेश – 25 नवम्बर 2015
स्वामी बालेंदु आश्रम के एक मेहमान के इस विचार पर एक विस्तृत टिप्पणी लिख कर ... Read More
दिन भर के कामकाज और मेहनत के बाद क्या आप सेक्स के लिए बेहद थक जाते हैं? 10 अगस्त 2015
दिन भर के कामकाज और मेहनत के बाद क्या आप सेक्स के लिए बेहद थक जाते हैं? 10 अगस्त 2015
स्वामी बालेन्दु से किसी व्यक्ति ने अपनी इस समस्या पर उनके विचार पूछे: दिन भर ... Read More
भूखे रह सकते हैं मगर झाड़ू-पोछा नहीं करेंगे - भारतीय समाज में व्याप्त झूठी प्रतिष्ठा की धारणा - 16 जुलाई 2015
भूखे रह सकते हैं मगर झाड़ू-पोछा नहीं करेंगे – भारतीय समाज में व्याप्त झूठी प्रतिष्ठा की धारणा – 16 जुलाई 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे उनके स्कूली बच्चों के कुछ परिवार घरेलू काम ... Read More
आयुर्वेदिक रेस्तराँ के काम की प्रगति - 22 फरवरी 2015
आयुर्वेदिक रेस्तराँ के काम की प्रगति – 22 फरवरी 2015
स्वामी बालेन्दु अपने आयुर्वेदिक रेस्तराँ के काम की प्रगति और उससे संबन्धित आगे आने वाले ... Read More
कृपया इसे अवश्य पढ़ें यदि आप रोजमर्रा की जिन्दगी से बचने के लिए छुट्टियाँ मनाने जाते हैं! 2 फरवरी 2015
कृपया इसे अवश्य पढ़ें यदि आप रोजमर्रा की जिन्दगी से बचने के लिए छुट्टियाँ मनाने जाते हैं! 2 फरवरी 2015
जब आपका सारा साल अवकाश के उन चार सप्ताहों पर केन्द्रित होता है तो फिर ... Read More
मैं घर से किया जाने वाला अपना काम (व्यवसाय) क्यों पसंद करता हूँ - 22 जनवरी 2015
मैं घर से किया जाने वाला अपना काम (व्यवसाय) क्यों पसंद करता हूँ – 22 जनवरी 2015
स्वामी बालेन्दु अपने काम के बारे में बता रहे हैं और यह भी कि वे ... Read More
अपने जीवन का समय बरबाद न हो इसलिए अपने काम से प्रेम करें - 21 जनवरी 2015
अपने जीवन का समय बरबाद न हो इसलिए अपने काम से प्रेम करें – 21 जनवरी 2015
स्वामी बालेंदु लोगों से आग्रह कर रहे हैं कि वे अपने समय का समुचित उपयोग ... Read More
चिकित्सा क्षेत्र के पेशेवर लोगों के लिए - आवश्यक जुड़ाव और दूरी - 20 जनवरी 2015
चिकित्सा क्षेत्र के पेशेवर लोगों के लिए – आवश्यक जुड़ाव और दूरी – 20 जनवरी 2015
स्वामी बालेंदु चिकित्सा क्षेत्र में काम करने वाले पेशेवर लोगों का शुक्रिया अदा करते हुए ... Read More
मोनिका की पृष्ठभूमि - पिता, जो परिवार के भरण-पोषण के लिए कुछ नहीं करता! 17 दिसंबर 2014
मोनिका की पृष्ठभूमि – पिता, जो परिवार के भरण-पोषण के लिए कुछ नहीं करता! 17 दिसंबर 2014
स्वामी बालेंदु उस वातावरण का वर्णन कर रहे हैं, जिसमें रहकर मोनिका बड़ी हुई है, ... Read More
तनाव कैसे कम करें: अपने काम से प्रेम करके - 11 नवंबर 2014
तनाव कैसे कम करें: अपने काम से प्रेम करके – 11 नवंबर 2014
स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि इस वक्त उनके यहाँ बहुत सी परियोजनाओं पर काम ... Read More
आप भी अम्माजी'ज़ आयुर्वेदिक रेस्तराँ का हिस्सा बन सकते हैं - 16 अक्टूबर 2014
आप भी अम्माजी’ज़ आयुर्वेदिक रेस्तराँ का हिस्सा बन सकते हैं – 16 अक्टूबर 2014
स्वामी बालेंदु एक प्रस्ताव के बारे में बता रहे हैं, जिसके अनुसार अगर कुछ लोग ... Read More
दाम्पत्य संबंधों पर तनाव का नकारात्मक असर! 2 अक्टूबर 2014
दाम्पत्य संबंधों पर तनाव का नकारात्मक असर! 2 अक्टूबर 2014
आजकल लोग तनावग्रस्त होते हुए भी कड़ी मेहनत करते हैं। किस तरह यह दाम्पत्य संबंधों ... Read More
आयुर्वेद संबंधी हमारी कार्यशालाओं में अदृश्य शक्तियों से सम्बंधित कोई काम नहीं होता - 29 सितंबर 2014
आयुर्वेद संबंधी हमारी कार्यशालाओं में अदृश्य शक्तियों से सम्बंधित कोई काम नहीं होता – 29 सितंबर 2014
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि आयुर्वेद प्रशिक्षण के लिए आए प्रतिभागी उनसे अदृश्य शक्तियों ... Read More
अगर आप अपने आप से प्यार करते हैं तो अपना काम किसी को भी कम कीमत में न बेचें - 3 सितम्बर 2014
अगर आप अपने आप से प्यार करते हैं तो अपना काम किसी को भी कम कीमत में न बेचें – 3 सितम्बर 2014
स्वामी बालेन्दु उन व्यवसायों की चर्चा कर रहे हैं, जिनमें उनसे अपेक्षा की जाती है ... Read More
व्यापार में भी सिर्फ पैसा ही सब कुछ नहीं है - 2 सितम्बर 2014
व्यापार में भी सिर्फ पैसा ही सब कुछ नहीं है – 2 सितम्बर 2014
स्वामी बालेन्दु एक महिला की चर्चा कर रहे हैं, जो लोगों की सेवा करके अपनी ... Read More