Home > Category: प्रसन्नता

अगर आप खुश रहना चाहते हैं तो आप अति-आदर्शवादी नहीं हो सकते – 27 अगस्त 2015

प्रसन्नता

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि यदि आप कुछ ज़्यादा ही आदर्शवादी हैं तो यह कई बार आपको दुखी कर सकता है-और इस अप्रसन्नता को दूर करने का उपाय है, यह स्वीकार करना कि वास्तविकता आपके आदर्श से बहुत भिन्न है।

हमें शिकायत क्यों नहीं करना चाहिए? इसका उत्तर यहाँ है – 28 मई 2015

प्रसन्नता

स्वामी बालेन्दु अपने पाठको से कह रहे हैं कि क्यों उन्हें अपनी आर्थिक स्थिति, अपने स्वास्थ्य, सामाजिक जीवन, आपसी सम्बन्ध या और किसी भी बात की शिकायत करना छोड़ देना चाहिए!

कृपया इसे अवश्य पढ़ें यदि आप रोजमर्रा की जिन्दगी से बचने के लिए छुट्टियाँ मनाने जाते हैं! 2 फरवरी 2015

प्रसन्नता

जब आपका सारा साल अवकाश के उन चार सप्ताहों पर केन्द्रित होता है तो फिर आप उनके साथ क्या गलत कर रहे होते हैं? स्वामी बालेंदु से जानिए!

दूसरों को गलतियाँ ढ़ूँढ़ने के काम में लगे रहने दीजिए और मस्त रहिए! 27 नवम्बर 2014

प्रसन्नता

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे कुछ लोग आपकी गलतियाँ ही ढूँढ़ते रहते हैं। आपको नीचा दिखाने की उनकी हरकतों से अप्रभावित रहते हुए सकारात्मक और प्रसन्न बने रहिए।

आप अपने लिए और अपनी ख़ुशी के लिए खुद ज़िम्मेदार हैं – 20 नवम्बर 2014

प्रसन्नता

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि आप किस तरह इस बात का एहसास कर सकते हैं कि सिर्फ और सिर्फ आप ही अपने आपको दुखी करते हैं-कोई दूसरा नहीं! अपनी खुशी के लिए अपने आपमें परिवर्तन लाइए!

अपने माता-पिता को दोष देना बंद कीजिए – अपने जीवन की ज़िम्मेदारी खुद वहन कीजिए! 19 नवंबर 2014

प्रसन्नता

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अपने माता-पिता की गलतियों पर कुढ़ना बंद करके उसकी जगह खुद अपने निर्णयों पर विचार करना क्यों महत्वपूर्ण है।

जबरदस्ती अपने आपको झूठी ख़ुशी के हवाले न करें- 17 अक्तूबर 2013

प्रसन्नता

“आप स्वयं अपने आपको प्रसन्न कर सकते हैं!” स्वामी बालेंदु इस वाक्य का हवाला देते हुए उसकी सीमाओं को लेकर आगाह कर रहे हैं।