स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है – 10 दिसंबर 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे लैंगिक भूमिकाओं को स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों ज़िंदा रखे हुए हैं। जैसे, घर के कामों का सारा बोझ स्त्री उठाती है और पुरुष को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता और वह मदद के लिए सामने नहीं आता!

Continue Readingस्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है – 10 दिसंबर 2015

जी नहीं, घर की सफाई करना सिर्फ स्त्रियों का काम ही नहीं है! 9 दिसंबर 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि किस प्रकार परंपरागत लैंगिक भूमिकाएँ आज भी सिर्फ भारत में ही नहीं, पश्चिम में भी समस्याएँ बनी हुई हैं। यहाँ पढिए, कौन से काम पुरुषोचित हैं और कौन से स्त्रियोचित, इस विषय में लोगों की प्रचलित धारणाओं के बारे में!

Continue Readingजी नहीं, घर की सफाई करना सिर्फ स्त्रियों का काम ही नहीं है! 9 दिसंबर 2015

हम इतने नकारात्मक हैं कि हमें हर जगह लिंगभेद और दूसरी बुराइयाँ दिखाई देती हैं – 25 अक्टूबर 2015

स्वामी बालेंदु अपने फोटो पर आई कुछ नकारात्मक टिप्पणियों के बारे में लिख रहे हैं-टिप्पणियाँ न सिर्फ चर्चा के विषय से कोसों दूर थीं बल्कि उस व्यक्ति की आलोचना कर रही थीं जो वहाँ मौजूद तक नहीं था!

Continue Readingहम इतने नकारात्मक हैं कि हमें हर जगह लिंगभेद और दूसरी बुराइयाँ दिखाई देती हैं – 25 अक्टूबर 2015

हमारे स्कूल में व्यावहारिक उदाहरणों की सहायता से समानता का सिद्धान्त की शिक्षा – 24 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि उनके स्कूल में बराबरी का सिद्धांत किस तरह सिखाया जाता है- खुद उसे व्यवहार में लाकर व्यावहारिक तरीके से भी और बातचीत के द्वारा भी।

Continue Readingहमारे स्कूल में व्यावहारिक उदाहरणों की सहायता से समानता का सिद्धान्त की शिक्षा – 24 अगस्त 2015

अपने बच्चों के सामने दूसरे बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें – 18 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे आपका अपना बच्चा आपके लिए हमेशा ख़ास रहेगा-लेकिन आपको दूसरे बच्चों को भी उसके जैसा ही समझना चाहिए!

Continue Readingअपने बच्चों के सामने दूसरे बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें – 18 अगस्त 2015

अश्लील फिल्में बलात्कार का कारण नहीं हैं। क्यों? 2 जून 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों अश्लील फिल्में या उनके कारण उपजी काम-वासना के नतीजे में बलात्कार नहीं होते। बल्कि इसका विपरीत होता है: काम-वासना का दमन, सेक्स और महिलाओं का दमन ही बलात्कार का कारण बनते हैं!

Continue Readingअश्लील फिल्में बलात्कार का कारण नहीं हैं। क्यों? 2 जून 2015

महिलाओं की यौन इच्छाओं से पुरुषों की सुरक्षा करना – लैंगिक समानता की दिशा में एक और तर्क – 7 मई 2015

स्वामी बालेन्दु लैंगिक भेदभाव के विरुद्ध आवाज़ उठा रहे हैं: कोई यह क्यों नहीं पूछता कि वास्तव में पुरुष यौन सम्बन्ध स्थापित करना चाहता है या नहीं?

Continue Readingमहिलाओं की यौन इच्छाओं से पुरुषों की सुरक्षा करना – लैंगिक समानता की दिशा में एक और तर्क – 7 मई 2015

पढ़े-लिखे उच्च वर्ग में भी लड़की के जन्म पर निराशा व्यक्त की जाती है! 14 जनवरी 2015

स्वामी बालेंदु भारत की एक बहुत बड़ी समस्या का वर्णन कर रहे हैं: बहुत सी महिलाएँ लड़के की जगह लड़की को जन्म देकर बहुत निराश हो जाती हैं!

Continue Readingपढ़े-लिखे उच्च वर्ग में भी लड़की के जन्म पर निराशा व्यक्त की जाती है! 14 जनवरी 2015

सभी बच्चे बराबर हैं और उनमें मेरी बेटी भी शामिल है – 25 नवंबर 2014

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अपरा स्कूल के दूसरे बच्चों के साथ खाना खाती है या नहीं, इसका और क्या अर्थ लगाया जा सकता है। इसका जाति-प्रथा से क्या संबंध है, यहाँ पढिए।

Continue Readingसभी बच्चे बराबर हैं और उनमें मेरी बेटी भी शामिल है – 25 नवंबर 2014

प्रबंधन के क्षेत्र में ज़्यादा से ज़्यादा महिलाएँ होनी चाहिए! 8 मई 2014

स्वामी बालेन्दु यह समझा रहे हैं कि यदि महिला प्रबंधकों की संख्या अधिक हो तो बहुत सी समस्याओं का अंत हो सकता है!

Continue Readingप्रबंधन के क्षेत्र में ज़्यादा से ज़्यादा महिलाएँ होनी चाहिए! 8 मई 2014