Tag: समानता

स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है - 10 दिसंबर 2015
स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों रोज़गार करते हैं मगर घर के कामों की ज़िम्मेदारी सिर्फ स्त्रियों की ही होती है – 10 दिसंबर 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे लैंगिक भूमिकाओं को स्त्रियाँ और पुरुष, दोनों ज़िंदा ... Read More
जी नहीं, घर की सफाई करना सिर्फ स्त्रियों का काम ही नहीं है! 9 दिसंबर 2015
जी नहीं, घर की सफाई करना सिर्फ स्त्रियों का काम ही नहीं है! 9 दिसंबर 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि किस प्रकार परंपरागत लैंगिक भूमिकाएँ आज भी सिर्फ भारत ... Read More
हम इतने नकारात्मक हैं कि हमें हर जगह लिंगभेद और दूसरी बुराइयाँ दिखाई देती हैं - 25 अक्टूबर 2015
हम इतने नकारात्मक हैं कि हमें हर जगह लिंगभेद और दूसरी बुराइयाँ दिखाई देती हैं – 25 अक्टूबर 2015
स्वामी बालेंदु अपने फोटो पर आई कुछ नकारात्मक टिप्पणियों के बारे में लिख रहे हैं-टिप्पणियाँ ... Read More
हमारे स्कूल में व्यावहारिक उदाहरणों की सहायता से समानता का सिद्धान्त की शिक्षा - 24 अगस्त 2015
हमारे स्कूल में व्यावहारिक उदाहरणों की सहायता से समानता का सिद्धान्त की शिक्षा – 24 अगस्त 2015
स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि उनके स्कूल में बराबरी का सिद्धांत किस तरह सिखाया ... Read More
अपने बच्चों के सामने दूसरे बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें - 18 अगस्त 2015
अपने बच्चों के सामने दूसरे बच्चों के साथ कैसा व्यवहार करें – 18 अगस्त 2015
स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे आपका अपना बच्चा आपके लिए हमेशा ख़ास रहेगा-लेकिन ... Read More
अश्लील फिल्में बलात्कार का कारण नहीं हैं। क्यों? 2 जून 2015
अश्लील फिल्में बलात्कार का कारण नहीं हैं। क्यों? 2 जून 2015
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों अश्लील फिल्में या उनके कारण उपजी काम-वासना के ... Read More
महिलाओं की यौन इच्छाओं से पुरुषों की सुरक्षा करना - लैंगिक समानता की दिशा में एक और तर्क - 7 मई 2015
महिलाओं की यौन इच्छाओं से पुरुषों की सुरक्षा करना – लैंगिक समानता की दिशा में एक और तर्क – 7 मई 2015
स्वामी बालेन्दु लैंगिक भेदभाव के विरुद्ध आवाज़ उठा रहे हैं: कोई यह क्यों नहीं पूछता ... Read More
पढ़े-लिखे उच्च वर्ग में भी लड़की के जन्म पर निराशा व्यक्त की जाती है! 14 जनवरी 2015
पढ़े-लिखे उच्च वर्ग में भी लड़की के जन्म पर निराशा व्यक्त की जाती है! 14 जनवरी 2015
स्वामी बालेंदु भारत की एक बहुत बड़ी समस्या का वर्णन कर रहे हैं: बहुत सी ... Read More
सभी बच्चे बराबर हैं और उनमें मेरी बेटी भी शामिल है - 25 नवंबर 2014
सभी बच्चे बराबर हैं और उनमें मेरी बेटी भी शामिल है – 25 नवंबर 2014
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अपरा स्कूल के दूसरे बच्चों के साथ खाना खाती ... Read More
प्रबंधन के क्षेत्र में ज़्यादा से ज़्यादा महिलाएँ होनी चाहिए! 8 मई 2014
प्रबंधन के क्षेत्र में ज़्यादा से ज़्यादा महिलाएँ होनी चाहिए! 8 मई 2014
स्वामी बालेन्दु यह समझा रहे हैं कि यदि महिला प्रबंधकों की संख्या अधिक हो तो ... Read More
तब तक लड़कियां पैदा करते रहना जब तक एक लड़का नहीं हो जाता - 9 अप्रैल 2014
तब तक लड़कियां पैदा करते रहना जब तक एक लड़का नहीं हो जाता – 9 अप्रैल 2014
स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अपने स्कूली बच्चों के घरों के दौरों के दौरान ... Read More
महिलाएं प्रेम करती हैं मगर पुरुष सिर्फ कामुक होते हैं! नारीवादी किस तरह लिंगभेद के खिलाफ काम करती हैं-13 फरवरी 2014
महिलाएं प्रेम करती हैं मगर पुरुष सिर्फ कामुक होते हैं! नारीवादी किस तरह लिंगभेद के खिलाफ काम करती हैं-13 फरवरी 2014
स्वामी बालेंदु नारीवादियों के बीच लोकप्रिय एक जुमले का ज़िक्र करते हुए बता रहे हैं ... Read More
कई प्राचीन परंपराएँ आपके सम्मान की हकदार नहीं हैं! - 13 मई 2013
कई प्राचीन परंपराएँ आपके सम्मान की हकदार नहीं हैं! – 13 मई 2013
स्वामी बालेंदु उन लोगों को जवाब दे रहे हैं जो उन पर आरोप लगाते हैं ... Read More
मैं अपनी बेटी को एक सामान्य भारतीय लड़की की तरह क्यों नहीं पालना चाहता?-24 अप्रैल 2013
मैं अपनी बेटी को एक सामान्य भारतीय लड़की की तरह क्यों नहीं पालना चाहता?-24 अप्रैल 2013
स्वामी बालेन्दु लिखते हैं कि आखिर क्यों वो अपनी बेटी को एक सामान्य भारतीय लड़की ... Read More
क्या लैंगिक समानता के लिए पुरुषों को आंदोलन चलाना होगा? - 27 फरवरी 13
क्या लैंगिक समानता के लिए पुरुषों को आंदोलन चलाना होगा? – 27 फरवरी 13
स्वामी बालेंदु उन दोहरे मानदंडों की बात करते हैं जो लोग स्त्री और पुरुष के ... Read More