Home > Tag: हिंसा

कुछ बच्चे पढ़ने में कमज़ोर होते हैं लेकिन मार-पिटाई से उनमें कोई परिवर्तन नहीं होगा! 24 सितंबर 2015

शारीरिक दंड

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि आपका कर्तव्य बच्चों को बेहतर इंसान बनाना है न कि उन्हें अधिक से अधिक जानकारियाँ कंठस्थ करवाना और इस मामले में भी हिंसा आपकी कोई मदद नहीं कर सकती!

हर चाँटा आपके बच्चे को थोड़ा सा और तोड़ देता है! 23 सितंबर 2015

शारीरिक दंड

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि भारतीय समाज में बच्चों के प्रति हिंसा किस तरह जड़ जमाए बैठी है और दुनिया भर के अभिभावकों और शिक्षकों से अनुरोध कर रहे हैं कि अपने बच्चों के साथ वे ज़रा सी भी हिंसा का इस्तेमाल न करें!

एक अहिंसक स्कूल खोलने का अर्थ है पहले शिक्षकों को शिक्षित करना! 22 सितंबर 2015

शारीरिक दंड

स्वामी बालेंदु अपने चैरिटी स्कूल की शुरुआत के बारे में बता रहे हैं। शारीरिक प्रताड़ना की मनाही को लेकर वे पूरी तरह से स्पष्ट थे- लेकिन शुरू में शिक्षकों को यह समझाना बड़ा मुश्किल सिद्ध हुआ कि इसे कार्यरूप में परिणत कैसे किया जा सकता है!

स्कूलों में शारीरिक प्रताड़ना: अपना खुद का स्कूल खोलने का सबसे मुख्य कारण – 21 सितंबर 2015

शारीरिक दंड

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अपना खुद का चैरिटी स्कूल खोलने के पीछे दूसरे स्कूलों में व्याप्त शारीरिक प्रताड़ना एक प्रमुख कारण था।

एक स्कूल में शारीरिक दंड का पर्दाफाश करने के बाद टीवी परिचर्चाएँ, फोन इंटरव्यू तथा और भी बहुत कुछ – 20 सितंबर 2015

मेरा जीवन

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि शुक्रवार को अंततः पवन के स्कूल में जारी शारीरिक दंड का पर्दाफाश करने के बाद वे उससे संबंधित और भी कई गतिविधियों में व्यस्त रहे। उनके बारे में विस्तार से यहाँ पढ़िए।

भारतीय स्कूलों में बच्चों के साथ होने वाली क्रूरतापूर्वक शारीरिक प्रताड़ना का वीडियो सहित पर्दाफाश – 18 सितंबर 2015

शारीरिक दंड

स्वामी बालेंदु इस ब्लॉग के ज़रिए पवन के स्कूल में दिए जा रहे शारीरिक दंड की सूचना पाठकों तक पहुँचा रहे हैं। नीचे दिए गए वीडियो को देखें, जिसमें क्रूरतापूर्वक बच्चों की पिटाई की जा रही है और जो भारतीय स्कूलों में रोज़मर्रा की बात है!

यह कहना कि इस्लाम शांति का धर्म नहीं है, क्यों इस्लाम के विरुद्ध पूर्वग्रह नहीं है – 15 सितंबर 2015

धर्म

स्वामी बालेंदु स्पष्ट कर रहे हैं कि बिना घृणा के भी आप इस्लाम और उसके प्रसार को लेकर अपनी चिंताएँ व्यक्त कर सकते हैं क्योंकि हिंसा उसके धर्मग्रंथ का हिस्सा है।

पश्चिमी महिला के लिए क्यों भारत में सामाजिक जीवन बनाने में दिक्कतें पेश आ सकती हैं – 2 जुलाई 2015

सम्बन्ध

स्वामी बालेंदु उन दिक्कतों के बारे में लिख रहे हैं, जो एक पश्चिमी महिला के सामने आ सकती हैं, जो भारत में रहकर वहाँ के समाज में मित्रता स्थापित करने की कोशिश में लगी हैं। पेश आने वाली कुछ संभव दिक्कतों के बारे में यहाँ पढिए।

पश्चिमी महिलाओं: अपने भारतीय परिवार वालों को अपने बच्चे की पिटाई की इजाज़त न दें! 1 जुलाई 2015

सम्बन्ध

स्वामी बालेन्दु भारतीय पुरुषों से विवाह करके भारत में बसी पश्चिमी महिलाओं के सामने आने वाली एक और चुनौती की चर्चा कर रहे हैं: बच्चों के साथ होने वाली घरेलू हिंसा!

आर्थिक रूप से स्वतंत्र महिला रोज़ अपने पति से मार खाती है-मगर उसी के साथ रहती है – 1 दिसंबर 2014

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेन्दु उनके स्कूल के एक बच्चे की माँ के साथ हुई रमोना की बातचीत का ज़िक्र करते हुए बता रहे हैं कि वह महिला खुद पैसे कमाकर परिवार का भरण-पोषण करती है लेकिन फिर भी अपने पति से मार खाती है।

12
Skip to toolbar