स्वास्थ्य के मुकाबले अपनी बीमारी से ज्यादा प्यार मत कीजिए! 5 मई 2014

स्वामी बालेन्दु उनके विषय में लिख रहे हैं, जिन्हें बीमार होना और बीमार पड़े रहना अच्छा लगता है-इस आदत के विकल्पों के बारे में उनके विचार यहाँ पढ़िए!

Continue Readingस्वास्थ्य के मुकाबले अपनी बीमारी से ज्यादा प्यार मत कीजिए! 5 मई 2014

एक के बाद एक नए प्रेमसंबंध बनाना – 29 जनवरी 08

स्वामी बालेंदु रिश्तों के बारे में लिखते हुए बताते हैं क्या कारण है कि लोग अकसर एक के बाद दूसरा प्रेमसंबंध बनाते रहते हैं|

Continue Readingएक के बाद एक नए प्रेमसंबंध बनाना – 29 जनवरी 08

रिश्तों के घाव भरे अध्यात्म की औषधि – 12 जनवरी 08

स्वामी जी लिखते हैं अपने हीलिंग सत्रों और रिश्तों के विभिन्न पहलुओं के बारे में

Continue Readingरिश्तों के घाव भरे अध्यात्म की औषधि – 12 जनवरी 08