सेक्स, सेक्स और सेक्स – पश्चिम के विषय में भारत का विकृत नजरिया – 2 सितंबर 2015

बहुत से भारतीय पुरुष और महिलाएँ यह विश्वास करते हैं कि पश्चिम में जो कुछ भी है, सिर्फ सेक्स है! क्यों? स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि दूसरे कारणों के अलावा इसका एक कारण समाचार पत्रों में छपने वाली कहानियाँ भी हैं!

Continue Readingसेक्स, सेक्स और सेक्स – पश्चिम के विषय में भारत का विकृत नजरिया – 2 सितंबर 2015

कैसे सतत मार्गदर्शन बच्चों के विकास में बाधा पहुँचाता है – 11 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे बच्चों को बार-बार टोकना कि यह करो, वह मत करो और उन्हें पूरी तरह आज़ाद (छुट्टा) छोड़ देना, दोनों ही उचित नहीं है। बच्चों के लालन-पालन संबंधी प्रश्नों की विवेचना यहाँ पढ़िए।

Continue Readingकैसे सतत मार्गदर्शन बच्चों के विकास में बाधा पहुँचाता है – 11 अगस्त 2015

लोगों के जीवन पर धर्म और ईश्वर का प्रभाव – भारत और पश्चिमी देशों के बीच तुलना – 3 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु ईश्वर और धर्म के प्रभाव के मामले में भारत और पश्चिमी देशों में हुए अपने अनुभवों के अंतर के बारे में विस्तार से लिख रहे हैं।

Continue Readingलोगों के जीवन पर धर्म और ईश्वर का प्रभाव – भारत और पश्चिमी देशों के बीच तुलना – 3 अगस्त 2015

पश्चिम में बसने जा रहे भारतीयों के लिए कुछ और टिप्स – 9 जुलाई 2015

स्वामी बालेन्दु पश्चिम में बसने जा रहे भारतीयों के लिए उनके पास उपलब्ध कुछ और विचार लिख रहे हैं। पढ़िए और उन पर अमल कीजिए!

Continue Readingपश्चिम में बसने जा रहे भारतीयों के लिए कुछ और टिप्स – 9 जुलाई 2015

जब भारतीय पश्चिमी मुल्कों में खरीदारी करना सीखते हैं – 8 जुलाई 2015

स्वामी बालेन्दु अपनी पत्नी या गर्लफ्रेंड के साथ पश्चिम में रहने वाले भारतीय मर्दों को बता रहे हैं कि कैसे वहाँ खरीदारी करना बहुत अलग अनुभव होता है! आज़ादी के एहसास जैसा!

Continue Readingजब भारतीय पश्चिमी मुल्कों में खरीदारी करना सीखते हैं – 8 जुलाई 2015

पश्चिम में बसना – मतलब वास्तविक रूप से स्वतंत्र होना – 7 जुलाई 2015

स्वामी बालेंदु पश्चिम में बसने जा रहे भारतीयों को बता रहे हैं कि अगर वे वास्तव में वहाँ ठीक तरह से रहना चाहते हैं तो उन्हें किन बातों को सीखना ही होगा- क्योंकि वहाँ लोग अधिक स्वतंत्र हैं!

Continue Readingपश्चिम में बसना – मतलब वास्तविक रूप से स्वतंत्र होना – 7 जुलाई 2015

भारतीय पुरुषों, अगर आप अपनी पश्चिमी साथी के साथ विदेश में बसने का मन बना रहे हैं तो कृपया इसे अवश्य पढ़ें – 6 जुलाई 2015

स्वामी बालेंदु उन भारतीय पुरुषों से मुखातिब हैं, जिनकी साथी पश्चिमी महिलाएँ हैं और जो उनके साथ किसी पश्चिमी देश में बसने जा रहे हैं: उनके सामने सबसे बड़ी समस्या अकेलेपन की हो सकती है क्योंकि वहाँ संयुक्त परिवार के स्थान पर व्यक्तिवाद की प्रचुरता है।

Continue Readingभारतीय पुरुषों, अगर आप अपनी पश्चिमी साथी के साथ विदेश में बसने का मन बना रहे हैं तो कृपया इसे अवश्य पढ़ें – 6 जुलाई 2015

भारतीय पुरुषों: जब आपकी पश्चिमी पत्नी अपने मर्द दोस्त का आलिंगन करती है तो क्या आप विचलित हो जाते हैं? 25 जून 2015

स्वामी बालेंदु भारतीय पुरुषों को बता रहे हैं कि यदि उनका जीवन साथी या गर्लफ्रेंड कोई पश्चिमी महिला है तो क्यों उन्हें ईर्ष्या को काबू में रखना सीखना होगा!

Continue Readingभारतीय पुरुषों: जब आपकी पश्चिमी पत्नी अपने मर्द दोस्त का आलिंगन करती है तो क्या आप विचलित हो जाते हैं? 25 जून 2015

भारतीय पुरुष को कभी-कभी अपनी पश्चिमी जीवन साथी की स्वतंत्रता क्यों भयभीत करती है – 24 जून 2015

स्वामी बालेन्दु उन समस्याओं की चर्चा कर रहे हैं, जिनका सामना भारतीय-पश्चिमी जोड़ों को अक्सर करना पड़ता है। उनके अनुसार इसका कारण दोनों देशों में परंपरागत रूप से लैंगिक भूमिका का अलग-अलग होना है।

Continue Readingभारतीय पुरुष को कभी-कभी अपनी पश्चिमी जीवन साथी की स्वतंत्रता क्यों भयभीत करती है – 24 जून 2015

भारतीय पुरुष पश्चिमी महिला के मध्य का निर्णय: काम करे या घर संभाले? 23 जून 2015

स्वामी बालेन्दु कुछ ठोस सवाल पेश कर रहे हैं, जिन्हें पश्चिमी महिला और भारतीय पुरुष जोड़ों को एक-दूसरे से और अपने आपसे भी पूछना चाहिए। जैसे कि स्त्री अपना कोई काम या नौकरी करेगी या सिर्फ घर संभालेगी!

Continue Readingभारतीय पुरुष पश्चिमी महिला के मध्य का निर्णय: काम करे या घर संभाले? 23 जून 2015