Home > Category: Hindi

भारत में महिलाओं के जीवनों में तब्दीली आ रही है लेकिन वहाँ नहीं, जहाँ कि सबसे अधिक ज़रूरत है – 14 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेन्दु भारत के महानगरों के बारे में लिख रहे हैं जहाँ, कोई सोच सकता है कि, लोगों के विचारों में भी आधुनिक जीवन का प्रवेश हो चुका होगा लेकिन मंज़िल अभी बहुत दूर है!

क्या आप भी सोचते हैं कि ‘शादी से पहले सेक्स नहीं’ – 13 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे बहुत से नैतिक मूल्यों की जड़ में पुरानी, दक़ियानूसी परंपराएँ हैं, जिन्हें अब उचित नहीं माना जा सकता-इसलिए वे अब हमारे व्यवहार और विचारों को निर्देशित नहीं कर सकते!

महिलाओं पर बच्चा पैदा करने के दबाव के भयंकर परिणाम – 12 जन 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि भारत में महिलाओं पर शादी के बाद बच्चे पैदा करने के कैसे-कैसे दबाव डाले जाते हैं-और क्या होता है जब वे ऐसा नहीं कर पातीं! यह समाज की क्रूरता प्रदर्शित करता है!

आपके विवाह के बाद जब आपकी सास आपकी माहवारी का हिसाब रखने लगती है – 11 जनवरी 2016

भारतीय संस्कृति

स्वामी बालेंदु भारतीय समाज, भारतीय परिवार और सास-ससुर द्वारा डाले जाने वाले दबाव के बारे में लिख रहे हैं, जो वे नव विवाहित जोड़ों पर और ख़ास कर नई नवेली बहू पर डालते हैं: जितना जल्दी हो सके बच्चा पैदा करो!

अपरा का चौथा जन्मदिन समारोह – 10 जनवरी 2016

मेरा जीवन

स्वामी बालेंदु अपरा के चौथे जन्मदिन के समारोह का वर्णन कर रहे हैं, जिसे उसके जन्मदिन यानी कल, 9 जनवरी 2016 के दिन आयोजित किया गया! वह बड़ा विशाल और शानदार समारोह सिद्ध हुआ-सबने बड़े आनंद के साथ खूब मौजमस्ती की!

कद्दू की खीर – कद्दू और दूध की मिठाई बनाने की विधि – 19 दिसंबर 2015

पाक कला

स्वामी बालेंदु कद्दू की खीर बनाने की विधि लिख रहे हैं, जिसे कद्दू और दूध के मिश्रण से तैयार किया जाता है। इसे तैयार करने में थोड़ा समय तो लगता है मगर इसे बनाना बहुत आसान है! घर में तैयार करके इसका मज़ा अवश्य लें!

हर साल घर में पानी घुस जाता है – हमारे स्कूल के बच्चे – 18 दिसंबर 2015

परोपकार

स्वामी बालेंदु अपने स्कूल के दो सबसे गरीब परिवार से आने वाले बच्चों का परिचय करवा रहे हैं। हर साल बारिश में यमुना की बाढ़ का पानी उनके घर में प्रवेश कर जाता है!

आभासी पर्दे के लिए वास्तविक इंसान को अनदेखा न करें – 17 दिसंबर 2015

तकनीक

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि जब कोई व्यक्ति आपसी चर्चा के समय अपने मोबाइल फोन या टेबलेट पर बात करने लगता है तो यह बड़ा तकलीफदेह होता है।

यहाँ सब कुछ आभासी नहीं है: जब सोशल मीडिया मित्रों को वास्तविक जीवन में एक-दूसरे से मिलवाता है! 16 दिसंबर 2015

मित्र

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे सोशल मीडिया के ज़रिए उन्हें अपने जीवन में कई तरह के लाभ प्राप्त हुए, जिनमें नए-नए दोस्तों का उनके वास्तविक जीवन में प्रवेश सर्वप्रमुख है।

ऑनलाइन संसार – कितना झूठा, कितना सच्चा? 15 दिसंबर 2015

मिथ्या

सोशल मीडिया के बारे में लिखते हुए स्वामी बालेंदु आगाह कर रहे हैं कि ऑनलाइन पढ़ी, देखी या साझा की गई हर सामग्री पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए।