आपके विवाह के बाद जब आपकी सास आपकी माहवारी का हिसाब रखने लगती है – 11 जनवरी 2016

स्वामी बालेंदु भारतीय समाज, भारतीय परिवार और सास-ससुर द्वारा डाले जाने वाले दबाव के बारे में लिख रहे हैं, जो वे नव विवाहित जोड़ों पर और ख़ास कर नई नवेली बहू पर डालते हैं: जितना जल्दी हो सके बच्चा पैदा करो!

Continue Readingआपके विवाह के बाद जब आपकी सास आपकी माहवारी का हिसाब रखने लगती है – 11 जनवरी 2016

मेरी प्रिय, पश्चिम की महिलाओं: भारतीय पुरुषों से ऑनलाइन प्रेम संबंध बनाते समय सतर्क रहें – 15 जून 2015

यह बड़ी आम बात है कि अक्सर पश्चिमी महिलाएँ भारतीय पुरुषों से ऑनलाइन चैटिंग करती हैं और फिर उनके प्रेम में पड़ जाती हैं। स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि क्या होता है जब कोई पश्चिमी महिला किसी भारतीय पुरुष से ऑनलाइन प्रेम कर बैठती हैं!

Continue Readingमेरी प्रिय, पश्चिम की महिलाओं: भारतीय पुरुषों से ऑनलाइन प्रेम संबंध बनाते समय सतर्क रहें – 15 जून 2015

हमारे गरीब बच्चों की और हमारी निराशा और असहाय स्थिति – 12 मई 2015

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे उन्हें और उनके स्कूल के बच्चों को बड़ी निराशा हुई जब अपने स्कूल के गरीब बच्चों को वे पास ही स्थित एक निजी स्कूल में भर्ती नहीं करा सके।

Continue Readingहमारे गरीब बच्चों की और हमारी निराशा और असहाय स्थिति – 12 मई 2015

आसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता को रिश्वत का प्रयास, मारने की धमकी के बावजूद सराहनीय है मजबूती-9 सितंबर 13

स्वामी बालेंदु आसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता की स्थिति की विवेचना कर रहे हैं। वे किसी पर भी विश्वास करने के काबिल नहीं रह गए हैं

Continue Readingआसाराम द्वारा प्रताड़ित लड़की के पिता को रिश्वत का प्रयास, मारने की धमकी के बावजूद सराहनीय है मजबूती-9 सितंबर 13

मैं कईयों के साथ सेक्स करूं तो रोमांस – आप करें तो धोखाधड़ी – 28 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु बताते हैं कि लोग अपने एवं दूसरों के लिए अलग – अलग प्रकार के मानदंड रखते हैं, यह बात यौनसंबंधों पर खासकर लागू होती है|

Continue Readingमैं कईयों के साथ सेक्स करूं तो रोमांस – आप करें तो धोखाधड़ी – 28 फरवरी 13

सपनों और आशाओं को मरने मत दीजिये – मग़र निराशाओं से सबक सीखिए! 25 फरवरी 13

स्वामी बालेंदु बताते हैं कि क्यों वह ‘उम्मीदें मत बांधो‘ की बहुप्रचलित सलाह में विश्वास नहीं रखते। जानिए स्वामी जी से निराशा से लड़ना कैसे सीखें|

Continue Readingसपनों और आशाओं को मरने मत दीजिये – मग़र निराशाओं से सबक सीखिए! 25 फरवरी 13

जब धार्मिक परम्पराओं के सामने 50 साल की दोस्ती को ताक पर रख दिया जाता है – 27 दिसंबर 2012

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे उनके पिता को बड़ा दुख हुआ जब उनके प्रिय मित्र ने अम्माजी के देहांत के बाद उन्हें दिलासा देने की जगह धार्मिक परंपरा को निभाना उचित समझा।

Continue Readingजब धार्मिक परम्पराओं के सामने 50 साल की दोस्ती को ताक पर रख दिया जाता है – 27 दिसंबर 2012

भारतीयों, अपने वादे निभाओ, आप विदेशियों और स्थानीय लोगों को निराश करते हैं! – 3 नवंबर 11

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि बात पर अमल ना करने की भारतीयों की आदत की वजह से कैसे विशेष रूप से विदेशी निराश महसूस करते हैं।

Continue Readingभारतीयों, अपने वादे निभाओ, आप विदेशियों और स्थानीय लोगों को निराश करते हैं! – 3 नवंबर 11

भारत में यात्रा – सभी नकारात्मक पहलुओं के बावजूद देश और लोगों को प्यार करता हूँ – 2 नवम्बर 11

स्वामी बालेन्दु भारत में यात्राओं के दौरान होने वाली उम्मीदों, निराशाओं और कई सुखद अनुभवों के बारे में बता रहे हैं। भारत में अपनी यात्रा शुरू करने से पहले इसे जरूर पढ़ें।

Continue Readingभारत में यात्रा – सभी नकारात्मक पहलुओं के बावजूद देश और लोगों को प्यार करता हूँ – 2 नवम्बर 11

साथी नहीं, जीवनसाथी ढूंढिए – 19 नवम्बर 08

स्वामी बालेंदु प्रेमसंबंधों के बारे में लिखते हुए बताते हैं कि सही जीवनसाथी की तलाश करने में क्या बाधाएं सामने आती हैं और क्या कारण है कि कई प्रेमप्रसंग असफल रहते हैं।

Continue Readingसाथी नहीं, जीवनसाथी ढूंढिए – 19 नवम्बर 08