जब आश्रम आना ऐसा लगता है जैसे किसी विशाल चिड़ियाघर देखने आए हों – 20 अक्टूबर 2015

स्वामी बालेंदु आश्रम में और आश्रम के बाहर वृंदावन में घूमते हुए हर कहीं दिखाई देने वाले विभिन्न पशुओं के बारे में बता रहे हैं। अलग-अलग यात्रियों की रोचक प्रतिक्रियाओं के बारे में यहाँ पढ़िए।

Continue Readingजब आश्रम आना ऐसा लगता है जैसे किसी विशाल चिड़ियाघर देखने आए हों – 20 अक्टूबर 2015

कुत्ते चॉकलेट के साथ ही योनि पसंद करते हैं! 11 अगस्त 2014

स्वामी बालेंदु एक मज़ेदार कहानी लिख रहे हैं, जिस पर वे और उनके मित्र कई साल से बार-बार हँसते रहे हैं।

Continue Readingकुत्ते चॉकलेट के साथ ही योनि पसंद करते हैं! 11 अगस्त 2014

दो ज़ू और एक समुद्र-किनारा – जर्मनी भ्रमण की कुछ झलकियाँ – 17 जून 2013

स्वामी बालेंदु अपनी बच्ची और पत्नी के साथ जर्मनी भ्रमण के दौरान पिछले सप्ताह हुए अपने अनुभवों और मनोरंजक प्रसंगों के बारे में बता रहे हैं।

Continue Readingदो ज़ू और एक समुद्र-किनारा – जर्मनी भ्रमण की कुछ झलकियाँ – 17 जून 2013

जर्मनी में अपरा का पशुओं के साथ आमोद-प्रमोद – 7 जुलाई 2013

स्वामी बालेंदु जर्मनी में अपने परिवार के साथ गुज़ारे तीसरे सप्ताह के बारे में बता रहे हैं। इस सप्ताह उन्होंने जिस मौज मस्ती में समय गुज़रा उसके बारे में पढ़ें।

Continue Readingजर्मनी में अपरा का पशुओं के साथ आमोद-प्रमोद – 7 जुलाई 2013