Home > Category: योग

प्रिय योग-शिक्षकों, योग को और मुश्किल न बनाएँ – 1 अक्टूबर 2015

योग

स्वामी बालेंदु योग-शिक्षकों को-और सामान्य रूप से सभी शिक्षकों को-बता रहे हैं कि चीजों को कठिन नहीं बल्कि आसान बनाएँ। यह उनके लिए, उनके छात्रों के लिए और उनके आसपास के लोगों के लिए भी मददगार साबित होगा।

मैं समझता हूँ कि विदेशी लोगों के लिए विभिन्न योग-मुद्राओं के संस्कृत नामों की आवश्यकता नहीं है! क्यों? 30 सितंबर 2015

योग

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि योग सिखाते समय वे और उनके परिवार के सदस्य विदेशी लोगों के लिए विभिन्न योग-मुद्राओं के लिए सामान्यतया संस्कृत शब्दों का इस्तेमाल नहीं करते। यहाँ पढ़िए कि क्यों।

क्या योग सीखने वाले छात्रों की मुद्राएँ ठीक करना आवश्यक है? 29 सितंबर 2015

योग

स्वामी बालेंदु इस प्रश्न पर चर्चा कर रहे हैं कि क्या योग शिक्षकों को छात्रों को बोलकर या पकड़कर सिखाना चाहिए। यहाँ पढ़िए कि वे सामान्यतः दोनों ही विकल्पों को क्यों खारिज करते हैं।

योग बाज़ार का घपला – योग कक्षा को चुनना जैसे दूध खरीदना! 17 नवम्बर 2014

योग

स्वामी बालेन्दु दूध और योग खरीदने के बीच समानताओं का वर्णन कर रहे हैं-पुराने समय के मुकाबले अब दोनों में बड़ा परिवर्तन आ गया है!

एक नयी परियोजना: बच्चों के लिए नए योग-वस्त्र और चटाइयाँ!-19 अगस्त 2013

योग

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि वे अपने चैरिटी स्कूल के बच्चों के लिए नए योग-वस्त्र और योग के दौरान इस्तेमाल होने वाली नई चटाइयाँ उपलब्ध कराने के लिए धन जुटाने का प्रयास कर रहे हैं।