Home > Category: अन्धविश्वास

यहाँ आप अन्धविश्वास के विषय में स्वामी बालेन्दु के ब्लॉग पढ़ सकते हैं. भारत तथा पश्चिमी देशों में बहुत से प्रचलित अन्धविश्वास हैं और उनके परिणाम क्या हो सकते हैं, यह भी आप यहाँ पढ़ सकते हैं!

आप स्वयं निश्चित कर सकते हो कि आप अवैज्ञानिक और आधारहीन परम्पराओं और अन्धविश्वासों के साथ जीना चाहते हो या वैज्ञानिक दृष्टिकोण से! अन्धविश्वास के विषय में दो संस्कृतियों का अनुभव करने वाले व्यक्ति के रोचक विचार यहाँ पढ़ें.

आस्था आपको पशुओं का मल-मूत्र भी खिला पिला सकती है – 8 अक्टूबर 2015

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि किस तरह भारत में इस समय गोमूत्र, गोबर और उनसे तैयार सामानों की धूम मची हुई है।

हमारे स्कूल में गुरुओं की लोकप्रिय जादुई हाथ की सफाई का नरेंद्र नायक के प्रदर्शन द्वारा पर्दाफाश – 13 अगस्त 2015

अन्धविश्वास

स्वामी बालेन्दु विख्यात तर्कवादी, नरेंद्र नायक के विषय में चर्चा करते हुए बता रहे हैं कि कैसे उन्होंने स्कूल के बच्चों के समक्ष लोकप्रिय गुरुओं के कपटपूर्ण जादू का पर्दाफाश किया।

एक साधु कहता है, यहाँ सोना गड़ा है और भारत सरकार वहाँ खोदना शुरू कर देती है! 4 नवंबर 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे एक साधु के स्वप्न को सच मानकर भारत सरकार खजाने की खोज में लाखों रुपए खर्च कर डालती है।

अंधविश्वास के प्रति सहिष्णुता बरक्स बच्चों को अंधविश्वास से दूर रखना- 9 अक्टूबर 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु स्पष्टीकरण दे रहे हैं कि क्यों आश्रम उन कर्मचारियों को वापस काम पर नहीं रखना चाहता, जो सिर्फ इस ज़िद में काम छोड़कर चले गए थे कि वे चेचक की दवा नहीं खाना चाहते।

क्या अन्धविश्वास ही चेचक का एकमात्र इलाज है? 8 अक्तूबर 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु सोशल नेटवर्क पर अपने आश्रम के बच्चों को दवाइयाँ खिलाए जाने के बारे में हुई चर्चा के दौरान प्राप्त प्रतिक्रियाओं का विवरण दे रहे हैं।

अंधविश्वासी लोग अपनी नौकरी छोड़ देंगे मगर अपना अंधविश्वास नहीं छोड़ सकते- 7 अक्तूबर 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि कैसे आश्रम के दो कर्मचारी अपनी नौकरी छोड़कर चले गए क्योंकि उन्हें चेचक निकल आई थी-लेकिन उन्होंने दवाई लेना गवारा नहीं किया!

आस्था और अंधविश्वास में कोई फर्क नहीं – अपनी आस्था पर विश्वास करना बंद करें! 5 जुलाई 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु यह प्रश्न कर रहे हैं कि ऐसी बहुत सी बातों को, जिन्हें धर्मभीरु लोग आस्था कहते हैं, हम अंधविश्वास क्यों न कहें। जितना हम समझते हैं, ये दोनों बातें एक दूसरे से उतना अलग नहीं हैं! कैसे, यहाँ पढ़ें।

सम्पूर्ण विश्वास बहुत खतरनाक होता है, सिर्फ दिखावा कीजिए कि आप ईश्वर पर भरोसा करते हैं 4 जुलाई 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि अधिकतर लोग जो कहते हैं कि वे ईश्वर पर विश्वास करते हैं, दरअसल सिर्फ दिखावा करते हैं। वे क्यों ऐसा सोचते हैं, यहाँ पढ़ें!

आप ईश्वर और धर्मग्रंथों पर किस हद तक विश्वास कर सकते हैं, इसका एक उदाहरण – 3 जुलाई 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु एक प्रकरण की याद कर रहे हैं जिसमें ईश्वर प्राप्ति की तमन्ना में पूरा परिवार सामूहिक आत्महत्या कर लेता है।

हानिरहित नीमहकीमी से खतरनाक अन्धविश्वासों तक – 2 जुलाई 2013

अन्धविश्वास

स्वामी बालेंदु अपनी किशोरावस्था में देखे गए पीलिया के वैकल्पिक इलाज के बारे में बता रहे हैं जो पूर्णतः बेतुके और मूर्खतापूर्ण अंधविश्वासों से परिचालित था!