क्या आपके पति के पॅार्न देखने से आपका यौन जीवन प्रभावित हो रहा है? – 17 अगस्त 12

यौन क्रिया

कुछ दिन पहले एक महिला ने हमें ईमेल किया। उसने लिखा कि उसका पति पॅार्न देखता है। वो ये जानना चाहती थी कि अब उसे क्या करना चाहिए। यह उसके लिए चिंता का विषय था, पर मुझे नहीं लगता कि उसके पति के लिए भी ये उतना गंभीर विषय था। मैंने इससे पहले भी इस तरह के कई प्रश्न सुने हैं इसीलिए इस विषय पर लिखने का मन बनाया।

एक बार काउंसलिंग के दौरान एक महिला ने बताया कि उसे अपने पति के पास से पॅार्न बरामद हुई। उसके लिए ये घटना ऐसी थी जिसके बाद से वो अपने पति को किसी और ही रूप में देखने लगी थी। इसको बताते समय वो न सिर्फ हैरान थी बल्कि सदमें में आ गई थी। मैंने महिला को सहज भाव से समझाते हुए कहा कि आप इसे बहुत बड़ा विषय मान रही हैं। फिर मैंने उससे पूछा कि आपके पति के पॅार्न देखने में बुराई क्या है? क्या आपकी सेक्स लाइफ वैसी नहीं है जैसी होनी चाहिए? उसने कहा कि वो अपनी शादीशुदा जिन्दगी से संतुष्ट है। मैंने फिर पूछा कि इस बात को जानने के बाद क्या वाकई कुछ बदला है? उसका जवाब था नहीं, सब कुछ वैसा ही है। मगर वो पॅार्न है! मैंने उसे समझाना शुरू किया कि वर्तमान समय में युवाओं के पास इंटरनेट के साधन आसानी से उपलब्ध हैं। ऐसी स्थिति में शायद ही कोई होगा जिसने पॅार्न न देखा हो। लेकिन इसका ये अर्थ कतई नहीं है कि ये लोग बुरे हैं।

एक अन्य मामले में महिला का कहना था कि उसके पति द्वारा पॅार्न देखने की वजह से वो अपनी देह के प्रति असहज हो जाती है। उसको ऐसा महसूस होता है कि जिन महिलाओं को उसका पति देखता है उनकी तरह मैं नहीं दिखती। ऐसा सोच-सोच कर वो पति के साथ बिताए पलों का आनन्द नहीं ले पाती। मैंने उस महिला से दो बातें पूछी, पहली ये कि वो स्वयं अपनी देह के बारे में क्या महसूस करती है? दूसरी, कि उसका पति क्या सोचता है? यहां मेरा मानना है कि कोई भी पुरुष पॅार्न फिल्म की हिरोइन को अपनी गर्लफ्रेंड नहीं बनाना चाहेगा। ज्यादातर पुरुषों को पॅार्न और वास्तविक संबंधों के अंतर का एहसास रहता है।

इस पूरे मामले पर मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि आपको अपने पति से बात करनी चाहिए। आप मात्र पॅार्न देखने की वजह से उन्हें बुरा नहीं कह सकती। वह जैसा है वैसा ही रहेगा। जब तक वो इसका आदी नहीं है तब तक सब ठीक है। अगर वो इसका आदी हो गया है तो किसी मनोचिकित्सक को दिखाकर समस्या का समाधान कराना चाहिए। अगर मैं पॅार्न की बात कर रहा हूं तो इसका मतलब ऐसी किसी सामग्री से नहीं है जिसमें कुछ भी गैर-कानूनी दिखाया जाता हो। पॅार्न समस्या का विषय तब तक नहीं है जब तक आपके वैवाहिक जीवन या प्रेम में इसके कारण कोई समस्या नहीं आती।

मैंने पहले भी पॅार्न पर लिखा है और बताया है कि जब मन में सैक्स की बात आती है तभी पॅार्न की भी बात आती है। सेक्स मन का नहीं शरीर और आत्मा विषय है। अगर आपको लगता हे कि आपके संबंधों में कुछ कमी है, आपको निश्चित तौर पर अपने पति से बात करनी चाहिए। आपको ये बात सुनिश्चित करनी होगी कि आप दोनों के संबंध आत्मा की गहराई रखते हैं या नहीं। केवल इस प्रश्न का उत्तर मिल जाने के बाद आपके मन में अन्य कोई प्रश्न नहीं आएगा।

%d bloggers like this:
Skip to toolbar