उत्तपम – सब्जियों वाली दक्षिण भारतीय मोटी रोटी बनाने की विधि- 1 मार्च 2014

पाक कला

हमारे आश्रम में मेहमानों का एक नया समूह आया हुआ है और आजकल वे और हम मिलजुलकर बहुत सुखद समय गुज़ार रहे हैं! वे कल आए और जबकि उन्होंने शाम तक यहाँ का ज़्यादा कुछ नहीं देखा है, एक बात वे लगातार कह रहे हैं: आश्रम का भोजन लाजवाब है! हर शनिवार की तरह मैं आज आपको उन स्वादिष्ट व्यंजनों में से एक व्यंजन बनाने की विधि बताना चाहता हूँ। इसे उत्तपम कहते हैं, जो एक दक्षिण भारतीय व्यंजन है और जिसे चाँवल और उड़द की दाल को भिगोकर और एक साथ पीसकर तैयार किए गए पेस्ट में विभिन्न सब्जियों को मिलाकर तैयार किया जाता है। खाने में हल्का, स्वास्थ्यकर और स्वादिष्ट!

उत्तपम – सब्जी वाली दक्षिण भारतीय रोटी

अगले नाश्ते में दक्षिण भारतीय व्यंजन लें। इस स्वादिष्ट और स्वास्थ्यकर व्यंजन को घर में बनाकर देखें!

उत्तपम बनाने में कितना वक़्त लगता है?

तैयारी करने में:
पकाने में:
कुल समय:
उसके पहले चावल और उड़द की दाल को 24 घंटे भिगोकर रखना होगा।

सामग्री


1 कप चावल
1/5 कप उड़द की दाल
1 कप पानी
75 ग्राम हरी मटर
75 ग्राम शिमला मिर्च
75 ग्राम गाजर
75 ग्राम टमाटर
75 ग्राम मीठा मक्का (स्वीट कॉर्न या अमरीकन कॉर्न)
उत्तपम को तलने के लिए तेल
स्वाद के अनुसार नमक

उत्तपम कैसे तैयार करें?

जब भी आप उत्तपम बनाकर खाना चाहें, उड़द की दाल और चावल को दो अलग-अलग बरतनों में लगभग 12 घंटे भिगोकर रखें। फिर दोनों का पानी अलग करके चावल और उड़द की दाल को एक साथ मिलाकर एक मजबूत ग्राइंडर में रखें। फिर उसमें एक कप पानी मिलाकर एक साथ पीसें और अच्छा पेस्ट (घोल) बना लें। वह लगभग शहद जितना गाढ़ा होना चाहिए। अब इस पेस्ट को एक बरतन में रख लें और बरतन को ढँककर अगले 12 घंटे के लिए किसी गर्म स्थान पर रख दें। अगर आप किसी ऐसी जगह पर रहते हैं, जहां पर्याप्त गर्म जगह उपलब्ध नहीं होती या ठंड का मौसम हो तो उस बरतन को कंबल में लपेटकर रख सकते हैं या फिर अपने ओवन को थोड़ा गर्म करने के बाद बंद कर दें और बरतन को उसमें रख दें। मुख्य बात यह है कि इस पेस्ट को अगले 12 घंटे तक ऊष्ण तापमान में रखा जाना आवश्यक होगा, जिससे उसमें खमीर उठ जाए।

पेस्ट पर इतना खमीर उठना चाहिए कि वह स्पष्ट दिखाई दे। अगर अब भी वह नहीं उठा है तो आप उसे कुछ देर के लिए खुली धूप में भी रख सकते हैं या ओवन में रखकर कम तापमान पर तब तक गर्म भी कर सकते हैं जब तक कि पर्याप्त खमीर न उठ जाए। इस बीच आप सब्जियों की तैयारी कर सकते हैं। उत्तपम के साथ अच्छी बात यह है कि आप अपनी मनपसंद किसी भी सब्जी का इस्तेमाल कर सकते हैं: ऊपर लिखी सब्जियों को ले सकते हैं या उनमें से कुछ को निकाल भी सकते हैं और किसा हुआ नारियल, अनन्नास के टुकड़े, जैतून का फल, या और कोई भी अपनी मनचाही सब्जी या सब्जियाँ मिला सकते हैं। सभी सब्जियों को अच्छी तरह धोकर बारीक (छोटे) आकार में काटकर इस चावल और उड़द के खमीर युक्त पेस्ट (घोल) में मिला दें।

एक चपटे नॉन-स्टिक तवे पर तेल गर्म करें। तवा शुरू में अच्छा गर्म होना चाहिए मगर बाद में रोटी को सेंकते समय मध्यम आंच पर सेंकना चाहिए, जिससे उत्तपम जले नहीं। जब तेल गरम हो जाए तब एक करछुल की सहायता से पेस्ट (घोल) को तवे पर इस तरह गोल-गोल फैलाएँ कि उसकी 20 सेंटीमीटर व्यास की रोटी बने और जिसकी मोटाई हो लगभग हरे मटर के बराबर। महत्वपूर्ण बात यह कि मटर और सभी सब्जियाँ पेस्ट द्वारा पूरी तरह ढँकी रहें, जिससे बाद में वे बाहर निकलकर इधर-उधर फैल न जाएँ।

तीन मिनट बाद एक झारे की सहायता से उत्तपम को हल्के हाथ से उठाकर उसके नीचे वाले हिस्से की जांच कर लें कि उत्तपम ठीक तरह से पक गया है या नहीं। पकने पर वह नीचे से कुरकुरा और हल्का गुलाबी हो जाएगा। और ध्यान रखें कि वह नीचे से जलने न पाए। जब वह सुनहरे रंग का हो जाए तो झारे की सहायता से उसे पलट दें और दूसरी ओर से भी उसे सेंककर पका लें।

जब आप देखें कि यह हिस्सा भी अच्छी तरह सिंक गया है तो एक बार उसे फिर से पलट दें, जिससे उत्तपम पूरी तरह पक जाए। जब इस तरह उत्तपम को तवे पर उलटते-पलटते हुए लगभग दस मिनट हो जाएँ, एक चाकू लेकर उत्तपम को हल्के हाथ से खुरचकर देख लें कि वह पर्याप्त ठोस हो गया है या नहीं। अगर चाकू पर थोड़ा सा पेस्ट भी लिथड़ गया है तो समझें कि उत्तपम अभी अच्छी तरह तैयार नहीं हुआ है और उसे कुछ देर और पकाने की ज़रूरत है।

जब देखें कि चाकू सफाई के साथ बाहर निकल आ रहा है तो समझिए कि उत्तपम तैयार हो गया है। उसे गर्मागर्म परोसें। साथ में नारियल की चटनी हो तो क्या कहने!

%d bloggers like this:
Skip to toolbar