तिल के लड्डू – तिल की मिठाई बनाने की विधि – 31 जनवरी 2015

पाक कला

आज मैं आपके लिए एक और मिठाई बनाने की विधि लिखना चाहता हूँ-इस बार बहुत आम भारतीय मिठाई: लड्डू! मगर सामान्य चने के आटे यानी बेसन के नहीं बल्कि तिल और मेवों को मिलाकर तैयार किए जाने वाले लड्डू! ठंड में खास तौर पर बनाए जाने वाले अत्यंत स्वादिष्ट लड्डू!

तिल के लड्डू

एक आम भारतीय मिठाई बनाकर देखें। उत्सवों के लिए उपयुक्त, समारोहों के लिए और भी बढ़िया-या फिर सिर्फ घर में खाने के लिए!

तिल के लड्डू बनाने में कितना वक़्त लगता है?

कुल समय:
इसके अलावा अगर खोआ स्वयं तैयार कर रहे हों तो तीन घंटे अतिरिक्त।

सामग्री


500 ग्राम खोआ
या
2.5 लीटर दूध
350 ग्राम तिल
150 ग्राम काजू
100 ग्राम छिले हुए बादाम
100 ग्राम किशमिश
1 छोटी चम्मच घी
500 ग्राम पिसी शक्कर

तिल के लड्डू कैसे बनाएँ?

अगर आपने पतले, भूरे छिलके वाले बादाम खरीदे हैं तो उन्हें पानी में भिगोने से काम की शुरुआत करें। इससे बादाम के छिलके नरम पड़ जाएँगे और उन्हें छीलना आसान हो जाएगा।

भारत में बहुत सी मिठाइयाँ दूध से तैयार की जाती हैं। लेकिन उनमें से कई सीधे दूध से तैयार नहीं की जातीं बल्कि खोए से बनाई जाती हैं, जिसे दूध को औटाकर तैयार किया जाता है। भारत में यह बाज़ार से खरीदा जा सकता है या फिर आप घर पर भी उसे तैयार कर सकते हैं। हालांकि इसमें समय और प्रयास दोनों लगते हैं मगर उसे बनाना ज़्यादा कठिन काम नहीं है:

एक गहरे बरतन या कड़ाही में दूध उबालने के लिए रख दें। उसे लगातार उबालते हुए चलाते रहें। चलाते रहना वास्तव में बहुत महत्वपूर्ण और आवश्यक है, जिससे दूध जलकर बरतन के तले में चिपकने न लगे। इसीलिए इस काम के लिए अगर कोई सहयोगी हो तो बेहतर-किसी भी स्थिति में दूध को चलाना बंद न करें! दूध धीरे-धीरे औटकर कम होना शुरू हो जाएगा और आखिर में गाढ़ा होते हुए ठोस होकर कुल दूध का पंचमांश रह जाएगा।

जब ठोस खोआ तैयार हो जाए तो उसे कुछ देर और भूनना होगा, जिससे उसका रंग हल्का सुनहरा हो जाए। खोआ बनाने की यह पूरी प्रक्रिया लगभग तीन घंटे का समय लेती है और पूरी तरह तैयार हो जाने पर खोए की भीनी खुशबू से सारी रसोई महक उठती है! जब यह काम पूरा हो जाए तो खोए को नीचे उतारकर ठंडा होने के लिए अलग रख दीजिए।

अब एक गहरी कड़ाही में तिल लेकर हलकी आँच पर भूनना शुरू कीजिए। बिना रुके उसे चलाते रहें क्योंकि तिल बहुत संवेदनशील होते हैं और ज़रा ध्यान हटते ही आसानी से जलने लगते हैं। जब वे भी हल्के सुनहरे हो जाएँ, उन्हें भी कड़ाही से निकालकर ठंडा होने के लिए अलग रख दीजिए।

अगर आपने पहले बादाम भिगोकर रखे थे तो अब आप उसके छिलके निकाल लें। बादाम और काजुओं के चार-चार टुकड़े कर लें। एक कड़ाही में घी गर्म करें और उसमें काजू और बादाम लेकर हल्का भून लें। जब बादाम और काजू हल्के सुनहरे हो जाएँ, उनमें किशमिश भी मिला दें और उन्हें भी लगभग आधे मिनट तक गर्म होने दें। अब स्टोव बंद कर दें और काजू, बादाम और किशमिश निकालकर उन्हें ठंडा होने के लिए अलग रख दें।

जब सब कुछ, यानी खोआ, तिल के बीज और बादाम, काजू तथा किशमिश का मिश्रण ठंडे हो जाएँ तो इन सभी सामग्रियों को और पिसी शक्कर को एक बड़े बरतन में लेकर अच्छी तरह मिलाएँ। हाथों से सारे मिश्रण को अच्छी तरह मैश करें, जिससे खोए के साथ दूसरी सारी वस्तुएँ अच्छी तरह एकसार हो जाएँ।

अब आपको इस मिश्रण के गोल-गोल लड्डू तैयार करने हैं। अगर उसी दिन न खाना हो तो उन्हें आप फ्रिज में रख दें।

जब मर्ज़ी हो, उनका मज़ा ले सकते हैं!

%d bloggers like this:
Skip to toolbar