घर में स्वादिष्ट दही जमाने की आसान विधि – 15 नवंबर 2014

पाक कला

जब हम आश्रम में आए अतिथियों से कहते हैं कि हम अपना दही खुद अपने आश्रम में जमाते हैं तो उनकी प्रतिक्रिया में आश्चर्यमिश्रित प्रशंसा का भाव होता है। मेरी पत्नी भी जब पहले-पहल आश्रम आई और मुझसे दही बनाने की पूरी प्रक्रिया जाननी चाही तब पहली बार मुझे पता चला कि पश्चिम में लोग यह तो जानते हैं कि एक खास प्रकार का बैक्टरिया दूध को दही में परिवर्तित करता है मगर यह नहीं जानते कि इस पूरी प्रक्रिया को बड़ी आसानी के साथ घर में ही अंजाम दिया जा सकता है! इसीलिए आज मैं दूध से दही बनाने की प्रक्रिया को ही विस्तार से लिखना चाहता हूँ, जिससे आप सभी खुद अपने घर में दही तैयार कर सकें। घर में तैयार दही की शुद्धता के बारे में आप आश्वस्त होते हैं और उसका स्वाद भी बहुत उम्दा होता है। इसके अलावा आप कुछ पैसे भी बचा लेते हैं!

घर में तैयार दही: बनाने में आसान और स्वादिष्ट

अपने घर में रात भर में दही तैयार कीजिए। बिना मशीन के, दूध और थोड़े से दही के सिवा किसी बाहरी सामग्री का इस्तेमाल किए बगैर!

घर में दही जमाने में कितना वक़्त लगता है?

कुल समय:
इसके अलावा पनीर को सख्त होने में लगने वाले दो घंटे।

सामग्री


1-5 किलोग्राम दूध
1 छोटी चम्मच दही

घर में दही कैसे जमाएँ?

दूध की मात्रा उतनी महत्वपूर्ण नहीं है क्योंकि वास्तव में दही में मौजूद बैक्टीरिया दूध को दही में परिवर्तित करते हैं। तो, अगर दूध ज़्यादा भी है तब भी उसे जमाने के लिए एक चम्मच दही पर्याप्त होगा।

एक बरतन में दूध लेकर उसे एक बार उबाल लें। उसके बाद उसे ठंडा करना है।

सबसे बड़ा प्रश्न यह होता है कि दूध को कितना ठंडा किया जाए। आधिकारिक रूप से उसे 115 डिग्री फ़ैरनहाइट या 45 डिग्री सेल्सियस तक ठंडा करना होता है। लेकिन वास्तविकता यह है कि आश्रम में हमने कभी तापमापी (थर्मामीटर) का उपयोग नहीं किया। मेरी माँ बरतन के बाहरी हिस्से पर हाथ रखकर बता देती थी कि दूध पर्याप्त ठंडा हो गया है। वह कहती थी कि दूध को नहाने के पानी के बराबर गरम होना चाहिए और इतना अनुमान आप दूध में उँगली-अर्थात, साफ उँगली-डालकर भी लगा सकते हैं। आप बाकायदा थर्मामीटर का इस्तेमाल करके ठीक तापमान तक दूध को ठंडा कर सकते हैं और निश्चय ही इससे और भी बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। वैसे हमारे तरीके से भी दो-चार बार के ट्रायल ऐंड एरर (प्रयत्न-त्रुटि विधि) के बाद आप ठीक-ठीक तापमान का अनुमान कर सकेंगे। एक बार इसका अनुभव हो जाए तो तापमापी के उपयोग से यह तरीका कहीं ज़्यादा आसान सिद्ध होगा।

जब दूध ठीक इस तापमान तक ठंडा हो जाए तो एक चम्मच दही लेकर उसे दूध में अच्छी तरह मिला दें।

बस इतना ही। इसके बाद आपको इतना ही ध्यान रखना है कि बरतन एक गरम स्थान पर रात भर या अगले आठ घंटे तक रखा रहे। इसे सुनिश्चित करने के लिए हम बरतन के चारों ओर कंबल लपेटकर रख देते हैं, जिससे वह सोने के कमरे के तापमान में अगले आठ घंटे तक रखा रहता है। अगर आपके कमरे रात में कुछ ज़्यादा ही ठंडे हो जाते हों तो आप ओवन को 50 डिग्री से कुछ कम गरम करके उसमें दही मिश्रित दूध को रखें। ओवन का स्विच ऑफ कर दें मगर ओवन का ढक्कन बंद ही रखें, जिससे कमोबेश यह तापमान पूरे आठ घंटे तक बना रहे।

सबेरे बरतन खोलकर देखें: आप देखेंगे कि दही खाने लायक जम गया है! बस, अगली बार दूध जमाने के लिए एक चम्मच दही अलग रख लें!

Leave a Comment