आलू का रायता – दही और आलू से बना स्वादिष्ट व्यंजन- 10 अगस्त 2013

शहर:
वृन्दावन
देश:
भारत

गुरुवार को यशेन्दु का जन्मदिन था और इस उपलक्ष्य में हमने स्कूल के बच्चों के साथ एक जोरदार पार्टी का आयोजन किया था। हम सबने एक साथ भोजन किया जिसमें एक व्यंजन था आलू का रायता, जिसे फेंटे हुए दही के साथ आलू मिलाकर बनाया जाता है। यह व्यंजन सबको पसंद आया इसलिए मैंने सोचा कि उसे बनाने का तरीका आपको भी बताया जाए। हमने बहुत से लोगों के लिए यह रायता बनाया था इसलिए ऊपर दिये गए चित्र में आपको रायते का बहुत बड़ा बर्तन दिखाई दे रहा है मगर नीचे जो विधि बताई गई है उसके अनुसार आप कम मात्रा में और घर में एक परिवार के लिए पर्याप्त रायता बना सकते हैं।

आलू का रायता – दही और आलू से बना स्वादिष्ट व्यंजन

आलू और दही को मिलाकर स्वादिष्ट व्यंजन बनाने का तरीका! किसी उत्सव में बनाइये और दोस्तों के साथ मज़ा लीजिए या घर में ही चाँवल, रोटी या हल्की तली सब्जियों के साथ इसका मज़ा लीजिए।

आलू का रायता बनाने में कितना वक्त लगता है?

कुल समय:

सामग्री

500 ग्राम आलू
500 ग्राम दही
500 मिलीलीटर पानी
50 ग्राम ताज़ी धनिया पत्ती
50 ग्राम ताज़ा पुदीना
1/2 बड़े चम्मच ज़ैतून का तेल अथवा जिस भी तेल में आप भोजन बनाते हैं|
1 1/2 चाय का चम्मच ज़ीरा
1/2 छोटी चम्मच साबुत सरसो
1 चुटकी हींग
10/15 मीठी नीम की पत्तियाँ
स्वाद के अनुसार नमक

आलू का रायता कैसे बनाएँ?

आलुओं को अच्छे से धोकर उन्हें एक बड़े बर्तन में पानी रखकर उबाल लें। उन्हें पककर मुलायम होने में लगभग 15 मिनट का वक़्त लगेगा। छिलका उतारकर आप खुद देख लें कि आलू पर्याप्त पक गए या नहीं।

इस बीच आप अगली तैयारियां कर सकते हैं। धनिया पत्ती और पुदीना अच्छे से धोकर उसके डंठलों को निकालकर फेंक दें। उन्हें एक ब्लेन्डर में रखकर उसका बारीक गूदा (प्यूरी या पेस्ट) बना लें।

दही को मथानी (बिलोनी, ब्लेन्डर) की सहायता से दस सेकंड अच्छी तरह से फेंट लें। उसमें पानी मिलाएँ और फिर से दस सेकंड फेंटें। अब उसमें धनिया पत्ती और पुदीने का पेस्ट मिलाकर पुनः फेंटें।

आधा चम्मच जीरा लेकर उसे तवे पर रखकर हल्का भून लें। जब उनका रंग हल्का सुनहरा हो जाए, उन्हें ठंडा करके खलबत्ते में पीस लें। बाद में इस्तेमाल के लिए इसे अलग रख लें।

जब आपके आलू अच्छी तरह पककर नर्म हो जाएँ, उन्हें आग पर से उतार लें और गर्म पानी फेंककर उन्हें ठंडे पानी में खंगालें और जल्द से जल्द छील लें।

छीलने के बाद आधे आलुओं को थोड़े मोटे आकार में मींजें और आधे आलुओं को काफी बारीक मींजकर उसकी लुगदी सी बना लें अर्थात उन्हें मैश कर लें। इस बारीक मैश किए हुए आलू की लुगदी को एक बड़े बर्तन में रखकर उसमें उपरोक्तानुसार पहले से तैयार दही मिलाएँ और मिश्रण को चलाएं जिससे दोनों वस्तुएँ अच्छे से मिल जाएँ। अब आलू के छोटे टुकड़ों को भी इसमें मिला दें और फिर से अच्छे से चलाएं। इसके बाद स्वाद के अनुसार नमक और जीरे का पाउडर छिड़ककर चलाएँ।

एक कढ़ाई में जैतून का तेल गरम करें और जब वह गर्म हो जाए बचे हुए जीरे, सरसों और हींग का तड़का लगाएँ और अंत में मीठे नीम की पत्तियाँ भी गरम तेल में डालकर इस बघार को थोड़ी देर चलाते रहें। ध्यान रखें कि ये मसाले जल न जाएँ लेकिन इतना भुन जाएँ कि उनकी सुगंध घर में फैल जाए।

जैसे ही इन मसालों का रंग बदलकर हल्का सुनहरा हो जाए, तड़के के इस मिश्रण को आग पर से हटा लें और दही और आलुओं के पहले से तैयार मिश्रण में मिला दें। आपका आलू का रायता बिलकुल तैयार है। दोस्तों के साथ उसका आनंद उठाएँ!