मुख्य-धारा के मीडिया से अलग कुछ करें – अच्छी खबर प्रसारित करें – 8 जनवरी 2015

सकारात्मकता

कल मैंने आपको बताया था कि किसी ने मुझसे इस बात का कारण जानना चाहा कि क्यों मैं अपने चैरिटी कार्यों का विवरण सार्वजनिक कर देता हूँ। मैंने इसका विस्तृत जवाब दिया था कि हम क्यों मोनिका, उसके अपघात, उसके इलाज और उसके स्वास्थ्य-लाभ की प्रगति संबंधी बातें आपको बताते रहते हैं। आज मैं इस सम्बन्ध में सामान्य रूप से कुछ बातें बताते हुए यह स्पष्ट करना चाहता हूँ कि क्यों अपने अच्छे कामों को सबको बताने का मकसद अपनी डींग हाँकना या दिखावा करना ही हो, यह ज़रूरी नहीं है बल्कि यह एक बहुत महत्वपूर्ण और जरूरी काम है!

मैं गंभीरता के साथ यह विश्वास करता हूँ कि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को खुद अपने द्वारा किए गए अच्छे कामों को लोगों के साथ साझा करना चाहिए! यह संसार कभी कभी इतना नकारात्मक, निराशाजनक और अंधकारमय लगता है कि जब आपको यह जानकारी मिलती है कि कुछ ऐसे भी व्यक्ति हैं जो कुछ अच्छा कर रहे हैं तो वह एक आशा की किरण सिद्ध होती है!

मैं इस बारे में बहुत गंभीर हूँ! जब आप टीवी चलाते हैं तो आप आपको बुरी से बुरी खबरें देखने को मिलती हैं: हत्याएँ, बलात्कार, आतंकवाद और युद्ध! जब आप अखबार उठाते हैं तो आप वही काली खबरें सफ़ेद पृष्ठ पर लिखी पाते हैं। उन्हें सुनना, देखना और जानना भी ज़रूरी है-लेकिन कभी-कभी मैं वाकई उन्हीं खबरों के समानान्तर कुछ सकारात्मक खबरों की अनुपस्थिति को बहुत मिस करता हूँ। कभी-कभी सुखद, कभी उल्लसित कर देने वाली, कभी-कभी आपके चेहरे पर मुस्कान ले आने वाली खबरें! अखबारों की सूचनाओं में सकारात्मक तत्व दिनोंदिन कम होते जा रहे हैं और मुझे विश्वास है कि व्यक्तिगत स्तर पर भी इस स्थिति में बड़ा परिवर्तन लाया जा सकता है और इस कार्य में इंटरनेट हमारा बहुत बड़ा सहायक हो सकता है!

इसी कारण हम बच्चों के लिए शुरू की गई हमारी चैरिटी परियोजनाओं की, उनमें निहित अच्छी कहानियों की, दूसरों के सहयोग से हमारे द्वारा की जा रही मदद की चर्चा करते रहते हैं। अगर आप फेसबुक या ट्विटर पर या किसी ब्लॉग पर पढ़ें कि कैसे कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति की मदद कर रहा है तो क्या आप उससे प्रसन्न नहीं होंगे? अगर आपने उस व्यक्ति के चैरिटी कार्य में या उसकी चैरिटी संस्था के साथ कोई सहयोग किया हो तो क्या यह सोचकर आपकी खुशी द्विगुणित नहीं हो जाएगी कि आप भी प्रकारांतर से किसी दूसरे की खुशी के लिए अपना योगदान दे रहे हैं?

कुछ न कुछ अच्छा हर वक़्त हो रहा है, ऐसे लोग आज भी मौजूद हैं, जो दूसरों की चिंता करते हैं! मैं यह संदेश देना चाहूँगा- लेकिन हम आखिर कर क्या सकते हैं? हम बहुत छोटे पैमाने पर यह काम कर रहे हैं। बहुत से आश्रम, मंदिर, संगठन और व्यक्ति हैं कि बिना किसी बड़े प्रयास के इससे कई गुना अधिक किया जा सकता है! वे क्यों नहीं आगे आकर दूसरों की सहायता करते, उन गरीब बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा उठाते और क्यों नहीं लोगों के लिए रोजगार के नए अवसर उपलब्ध कराने में मददगार होते या नशे की लत छुड़वाने के या आपातकालीन समस्याओं पर काबू पाने में उन्हें अपना सहयोग देते?

बहुत से ऐसे लोग मौजूद हैं, जो यह काम करते हैं। और जो नहीं कर रहे हैं, उन्हें हम यह बताते हैं। हो सकता है कि हम उन्हें प्रेरित कर पाएँ, हो सकता है हम दूसरों को कोई रास्ता दिखा सकें।

कुछ भी हो, मैं जानता हूँ कि बहुत से लोग चुपचाप, बिना किसी शोर-शराबे के अपना काम कर रहे हैं। मैं उन्हें भी उकसाना चाहता हूँ कि वे अपना मौन तोड़ें। अपने अच्छे कामों के बारे में सबसे बात करें, दूसरों को जानकारी दें कि आप क्या कर रहे हैं, अपने अच्छे कामों की खुशबू दुनिया भर में हर तरफ फैलने दें और लोगों को दिखाएँ कि दुनिया में सकारात्मकता, परोपकार, चैरिटी और सहायता करने वाले हाथ आज भी उपलब्ध हैं!

Leave a Comment