एक-दूसरे के प्रति दिमाग खुला रखना – मैं और मेरी पत्नी किस तरह एक-दूसरे को प्रभावित करते हैं – 19 मार्च 2015

मन

दूसरों को अपने दिमाग में प्रवेश की इजाज़त देने के खतरों के बारे में कल मैंने लिखा था। लेकिन दूसरी ओर यह स्वाभाविक ही है कि आप दूसरों को इतना करीब आने दें कि वे आपके दिमाग को और आपके जीवन को प्रभावित कर सकें और यह एक भरपूर ज़िन्दगी के लिए ज़रूरी भी है। हालाँकि इसमें इस बात का खतरा हो सकता है कि कोई गलत व्यक्ति आपको प्रभावित करने लगे लेकिन जीवन के सबसे सुखद और सुन्दर प्रभाव के परस्पर आदान-प्रदान की संभावना भी हर वक़्त बनी रहती है: अपने साथी, जीवन-साथी या मनचाहे व्यक्ति के साथ प्रेम की सम्भावना।

जब आप प्रेम में होते हैं, किसी के साथ स्नेह-संबंध में बंधे होते हैं तो आप अपना सब कुछ अपने साथी के सम्मुख खोलकर रख देते हैं। अगर आप एक स्वस्थ, खरा और प्रगाढ़ संबंध बनाए रखना चाहते हैं तो यह आवश्यक है कि आपका साथी आपको जाने, आपके सोचने-समझने के तौर-तरीकों को समझे, आपकी दुनिया में प्रवेश करके उसे देखे-भाले और उसके हर पहलू को अच्छी तरह जान-समझ ले। आप क्या कल्पनाएँ करते हैं, कौन सी बातें आपको उत्प्रेरित करती है और विभिन्न परिस्थितियों में आप क्यों एक विशेष प्रकार का व्यवहार करते हैं। इसी तरह दोनों के बीच प्रगाढ़ संबंध विकसित हो सकता है।

यह प्रक्रिया समय मांगती है और न सिर्फ आपका साथी आपके सामने खुलता है बल्कि आप भी उसके समक्ष प्रत्यक्ष होते हो। आप उसके दिलोदिमाग की अच्छाइयों और बुराइयों को जानने-समझने लगते हैं और अपने अँधेरे कोनों को उसके सामने प्रदर्शित करने में आपको भी डर नहीं लगता। एक-दूसरे को व्यक्त करने की यह यात्रा आप दोनों साथ चलते हुए पूरी करते हैं और इसलिए जहाँ आप अपने साथी से सहज ही प्रभावित होने लगते हैं वहीं आप भी उसे प्रभावित करते चलते हैं।

आदर्श स्थिति यह होगी कि दोनों एक दूसरे की अच्छी बातों को ग्रहण करें, अपनी कमज़ोरियों को समझें और स्वीकार करें। आप अपने साथी से उन बातों को सीख सकते हैं, जिन्हें आप अच्छा समझते हैं और उन्हें अपने जीवन में उतार सकते हैं! अंततः आप विकास की एक नई राह पर एक साथ निकल पड़ते हैं!

मैं अपने अनुभव के बल पर आपको विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि दरअसल आप अपने जीवन की सबसे सुंदर, रोमांचक और शानदार यात्रा पर निकल पड़े हैं!

इस राह पर रमोना और मैंने साथ रहते हुए आठ साल बिताए हैं और हमें पता नहीं, कितने भिन्न-भिन्न तरीकों से हमने एक-दूसरे को प्रभावित किया होगा! हम बिल्कुल भिन्न संस्कृतियों से आए थे, अलग-अलग भाषाएँ बोलते थे और सर्वप्रथम हमारा वार्तालाप एक ऐसी भाषा में हुआ करता था, जो न तो मेरी मातृभाषा थी न उसकी। फिर एक-दूसरे की भाषा सीखी, दोनों एक-दूसरे को भीतर तक अच्छी तरह से जान चुके हैं और साथ रहते हुए न सिर्फ एक दूसरे को बदल रहे हैं बल्कि बाहर से आने वाले प्रभावों का मुक़ाबला करते हुए एक साथ बदलने या न बदलने का निर्णय करते हैं। हम दोनों ने एक साथ विकास किया है। बहुत अधिक विकास किया है।

यह बताना मुश्किल है कि ठीक किस तरह से रमोना ने मेरे मस्तिष्क को प्रभावित किया है लेकिन किया है और बहुत अधिक प्रभावित किया है, यह सही है। मैं अपने साथी के सामने अपना दिल खोलकर रख सका और वह मेरे सामने। हमारे बीच कोई उलझन नहीं हैं, हमारा कोई पहलू एक-दूसरे से छिपा नहीं है। और इसीलिए हमें अपने संबंध पर गर्व है।

स्वाभाविक ही इन बातों को हम कुछ खास दिनों में कुछ खास तरह से याद करते हैं-जैसे आज, जब रमोना का जन्मदिन है। पहली बार आठ साल पहले मैंने उसे जन्मदिन की शुभकामनाएँ भेजी थीं। पीछे मुड़कर देखने पर पता चलता है कि दोनों ही इस दर्मियान कितना अधिक बदल चुके हैं-दोनों साथ-साथ और दोनों एक-दूसरे को बदलते हुए। और मैं आशा करता हूँ कि आने वाले वर्षों में हम और भी अधिक बदलेंगे, दोनों एक-दूसरे को और एक साथ दोनों!

जन्मदिन मुबारक हो, रमोना!

%d bloggers like this:
Skip to toolbar