यदि आप पश्चिमी महिलाओं के साथ ऑनलाइन सेक्स चैट करने वाले भारतीय पुरुष हैं तो इसे अवश्य पढ़ें! 17 जून 2015

भारतीय संस्कृति

पश्चिमी महिलाओं की निराशा हमने अपनी आँखों से देखी है और उनके मुख से उनकी दास्तान सुनी है। उनकी निराशाजनक परिस्थितियों के बारे में मैं पिछले ब्लॉगों में आपको बता चुका हूँ। यह भी कि किस तरह वे भारतीय पुरुषों के साथ ऑनलाइन चैट करती हैं, उनके प्रेम में लिप्त हो जाती हैं, उनसे मिलने इतनी दूर भारत चली आती हैं। पिछले दो दिनों से मेरे शब्दों का रुख इन महिलाओं की ओर था लेकिन आज मैं यह ब्लॉग भारतीय पुरुषों के बारे में लिखना चाहता हूँ, जो इन परिस्थितियों की जड़ हैं।

मैं एक बार फिर स्पष्ट कर दूँ कि मेरे शब्द उन महिलाओं के अनुभवों पर आधारित हैं, जो ऐसी परिस्थिति से दो-चार हुईं और जिन्होंने यहाँ आकर अपनी दास्तानें हमें सुनाई हैं।

मेरे प्रिय भारतीय मित्रों, मुझे इस बात से कतई कोई एतराज़ नहीं होगा अगर आप मेरे मित्रों से सोशल नेटवर्क पर संपर्क करते हैं। अगर वे आपको जवाब देते हैं और आपके बीच मित्रता हो जाती है, चर्चाएँ होने लगती हैं, सांस्कृतिक आदान-प्रदान होता है तो मैं आप दोनों के लिए बड़ा खुश होऊँगा, बधाई दूँगा! लेकिन याद रखिए, इस बात की पूरी संभावना है कि जिस महिला के साथ आप इस तरह की चर्चा कर रहे हैं, मुझसे संपर्क करके मुझसे आपके बारे में पूछे और आपके बीच होने वाली बातों की चर्चा भी करे।

अगर उसके बाद मुझे पता चलता है कि आप उनके साथ इश्कबाज़ी कर रहे हैं और वे अब आप से मिलने के लिए भारत आने का विचार कर रही हैं तो मैं उनसे सतर्क रहने की गुज़ारिश अवश्य करूँगा, जैसा कि मैं अपने पिछले दो ब्लॉगों में बता चुका हूँ। क्योंकि मैं जानता हूँ कि वे इस संबंध को लेकर बहुत गंभीर हैं जबकि हो सकता है कि आप इस बारे में गंभीर न हों।

मैं इस बात को बिल्कुल स्पष्ट कर देना चाहता हूँ: वास्तव में यह महिला इंटरनेट पर एक ऐसे व्यक्ति से प्रेम कर बैठी है, जो बहुत दूर बैठा है, जिसे वह बिल्कुल नहीं जानती और वह व्यक्ति आप हैं! आप जो कुछ भी उससे कह रहे हैं, उस पर और आपकी चिकनी-चुपड़ी बातों पर वह ईमानदारी से विश्वास कर रही है। मैं हमेशा प्रेम के खुले इज़हार के पक्ष में रहा हूँ और सभी को इस बात की स्वतंत्रता है कि वह अपनी मर्ज़ी से अपनी राह चुनें और अपने जीवन साथी की खोज करें- लेकिन वह आपके प्रेम में लिप्त हो गई है और मुझे संदेह है कि आप खुद अपने शब्दों को लेकर उतने गंभीर नहीं हैं जितनी कि वह है!

आप किसी की भावनाओं के साथ ऐसा खिलवाड़ क्यों करते हैं? हो सकता है, आप वास्तव में न जानते हों कि सामने वाला आपकी मज़ाकिया छेड़छाड़, लटकों-झटकों और इश्कबाज़ी को गंभीरता से ले रहा है। हो सकता है, आप समझ रहे हों कि ऐसी ऑनलाइन बातें वह आप जैसे दस और लोगों के साथ कर रही होगी, जैसा कि आप स्वयं दस और महिलाओं के साथ कर रहे हैं। यह भी हो सकता है कि किसी भारतीय महिला के साथ आपका अनुभव रहा हो कि World Wide Web पर उसने भी आपसे गुमनाम रहकर बातें तो की थीं लेकिन उसका कोई गंभीर नतीजा नहीं निकला था। आप लोग सिर्फ मज़ाकिया छेड़छाड़ करते रहे, इस बात का मज़ा लेते रहे कि आप दोनों, इंटरनेट पर ही सही, इतने खुले मन से आपस में सेक्स की बातें कर पा रहे हैं। सच बात तो यह है कि भारत में आप सेक्स के बारे में बात नहीं कर पाते, वास्तविक सेक्स तो कर ही नहीं पाते क्योंकि ऐसा करना हमारी संस्कृति का हिस्सा नहीं है। न तो आपने, न उस लड़की ने भी सोचा होगा कि कभी आपकी मुलाक़ात हो सकती है। भले ही आपने आपस में संभोग करने का सपना तक देख डाला हो!

मैं आपको एक बात बताना चाहता हूँ: एक पश्चिमी महिला के लिए यह सब पूरी तरह भिन्न होता है। उसकी संस्कृति अलग है। वह बिल्कुल दूसरी तरह से सोचती है और हो सकता है कि उसने यौनिकता के दमन की वैसी पीड़ा न भुगती हो जैसी आपने भुगती है। यही कारण है कि बिना वास्तविक सेक्स की संभावना के ऐसी सेक्स की चर्चा करना उसके लिए आवश्यक नहीं है। वह गंभीर है क्योंकि वह जीवन के ऐसे मोड़ पर खड़ी है, जहाँ वाकई उसे एक आत्मीय, स्थिर और टिकाऊ संबंध की आवश्यकता है! वह कभी भी यहाँ, आपके दरवाजे पर आकर खड़ी हो सकती है और वह सब मांग सकती है, जिसे देने का वादा आपने ऑनलाइन किया था!

क्या आपको डर लग रहा है? बढ़िया! बढ़िया इसलिए कि अगर आप डर रहे हैं तो इसका अर्थ है कि आप वाकई इस मामले में गंभीर नहीं हैं और अगर गंभीर नहीं हैं तो आपको तुरंत इसे यहीं समाप्त कर देना चाहिए! आप जिस राह पर चल रहे हैं, वहाँ और आगे बढ़ने पर किसी के दिल पर ज़बरदस्त ठेस लग सकती है। उसके सामने स्पष्ट कर दें कि आप हँसी-ठट्ठा करके टाइम पास कर रहे थे, यह भी स्पष्ट करें कि आप कुछ साल बाद उस लड़की से शादी करने वाले है जिसे आपके अभिभावक आपके लिए चुनेंगे या आप वास्तव में शादीशुदा है और आप सिर्फ बातें करके मन बहलाना चाहते हैं। यह ठीक है और मैं दावा करता हूँ कि ज़्यादातर महिलाएँ इतना सब हो जाने के बाद भी एक मित्र के रूप में आपसे बात करती रहेंगी- लेकिन तब तक ही, जब तक कि आप उन्हें धोखा देने की कोशिश नहीं करते और उनके साथ झूठे वादे नहीं करते!

%d bloggers like this:
Skip to toolbar