Home > Category: गुरू

धार्मिक परम्पराएँ शिष्यों को गुरुओं के अपराधों पर पर्दा डालने पर मजबूर करती हैं-12 सितंबर 2013

गुरू

स्वामी बालेंदु समझा रहे हैं की कैसे धर्म शिष्यों को आदेश देता है कि न सिर्फ वे उनकी आँखों के सामने किए जा रहे गुरुओं के अपराधों की अनदेखी करें बल्कि दूसरों को भी उसके खिलाफ बोलने की इजाज़त न दें!

प्राचीन काल से लेकर आधुनिक रॉक स्टार गुरुओं तक का विकास- 23 जुलाई 2013

गुरू

स्वामी बालेंदु उस क्रमिक विकास का विवरण दे रहे हैं जिसके अनुसार पारंपरिक गुरुओं में क्रमशः परिवर्तन आया और आज वे विशाल संख्या में मौजूद अपने प्रशंसकों के सामने स्टेज शो करते हुए किसी रॉक स्टार जैसे लगते हैं।

क्यों आप खुद कठपुतली बनकर अपने जीवन को किसी गुरु के हवाले करना चाहते हैं?- 22 जुलाई 2013

गुरू

स्वामी बालेंदु समझा रहे हैं कि क्यों वे समझते हैं कि गुरुवाद ताकत और भोले-भाले लोगों के शोषण को दावत देता है। अपने गुरु आप बनिए!

अपनी जिम्मेदारियों से बचने का गुरु प्रदत्त सम्मोहक प्रस्ताव – 3 अप्रैल 2013

गुरू

स्वामी बालेन्दु लिखते हैं कि किस तरह हिन्दू धर्म में किस तरह गुरुवाद को बढ़ावा दिया गया है और उसके क्या दुष्परिणाम होते हैं|