Home > Category: स्वतन्त्रता

जब बात सेक्स की हो तो सवाल उठता है स्वतंत्रता और सहिष्णुता का – 1 मार्च 13

स्वतन्त्रता

स्वामी बालेंदु कहते हैं कि यदि आप अपनी बात कहने और मनचाहा जीवन जीने की आजादी चाहते हैं तो आपको सहिष्णु बनना ही होगा|