Home > Category: मिथ्या

ऑनलाइन संसार – कितना झूठा, कितना सच्चा? 15 दिसंबर 2015

मिथ्या

सोशल मीडिया के बारे में लिखते हुए स्वामी बालेंदु आगाह कर रहे हैं कि ऑनलाइन पढ़ी, देखी या साझा की गई हर सामग्री पर भरोसा नहीं किया जाना चाहिए।

भरोसा करना अच्छी बात है – मगर अपने शक पर भी भरोसा करें – 16 नवंबर 2015

मिथ्या

स्वामी बालेंदु उन बेईमान लोगों के बारे में लिख रहे हैं जो आपसे उन पर विश्वास करने की गुज़ारिश करते हैं-लेकिन सवाल यह है कि आपको कैसे पता चले कि उनके विषय में आपका शक सही हैं या नहीं!

आध्यत्मिक मूर्खता, जिसका दावा है कि सी-सेक्शन माँ और बच्चे के बीच के लगाव को बाधित करता है – 12 अगस्त 2015

मिथ्या

स्वामी बालेन्दु आध्यात्मिक और रहस्यवादियों की ओर से आए प्राकृतिक प्रसव का प्रसार करने वाले एक वक्तव्य के बारे में बता रहे हैं, जिसके अनुसार सी-सेक्शन माँ और बच्चे के मध्य प्रेम को बाधा पहुँचाता है, जबकि उनका यह अतिवादी दावा अप्रिय स्थिति भी पैदा कर सकता है।

क्या आसाराम की यह ‘छोटी सी’ गलती क्षमायोग्य है? क्या उसे भुलाया जा सकता है?-5 सितम्बर 2013

मिथ्या

श्रीश्री रविशंकर और आसाराम के पुत्र की मूर्खतापूर्ण और हास्यास्पद प्रतिक्रियाओं के बारे में स्वामी बालेंदु अपनी विवेचना प्रस्तुत कर रहे हैं।

आसाराम और जवान लड़कियों के लिए उसकी न बुझने वाली पिपासा – 4 सितंबर 2013

मिथ्या

आसाराम प्रकरण में मिली नई जानकारियों के बारे में स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि उसके एक सहयोगी के अनुसार आसाराम युवा महिलाओं के साथ अपने गुप्त कमरे में अक्सर ही मिला करता था।

क्या भारत का क़ानून धार्मिक और अमीर लोगों के लिए अलग तरह से काम करता है?-3 सितम्बर 2013

मिथ्या

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों आसाराम की गिरफ्तारी में देरी होने के कारण भारत में बहुत से लोग उद्विग्न हो गए-ऐसा लगा जैसे पुलिस के लिए वह कोई बहुत बड़ा वीआईपी हो!

आसाराम बापू पर एक नाबालिग लड़की के साथ दुराचार का आरोप – 2 सितंबर 2013

मिथ्या

स्वामी बालेंदु उस प्रकरण का विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं जिसमें आसाराम बापू पर एक किशोरी के साथ ज्यादती करने का आरोप लगाया गया था। अब आसाराम बापू गिरफ्तार भी हो गया है।

ईश्वर की तरह ‘सर्वज्ञ’ श्री श्री रविशंकर को चायपत्ती क्यों चुरानी पड़ी – 21 फरवरी 13

मिथ्या

स्वामी बालेंदु एक और कहानी का पर्दाफाश करते हैं जिसमें श्री श्री रविशंकर दावा करते हैं कि वह सर्वज्ञ हैं। पढ़िए कि कैसे वह चायपत्ती का पैकेट चुराने को वाज़िब ठहरा रहे हैं|

श्री श्री रविशंकर की अपील – सोचो मत, मेरे पीछे चले आओ! – 20 फरवरी 13

मिथ्या

स्वामी बालेंदु श्री श्री रविशंकर और उनकी संस्था आर्ट ऑफ लिविंग का एक विज्ञापन उजागर किया है जिसमें वह लोगों से कहते हैं ‘ सोचो मत, अभी आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्य बन जाओ|

श्री श्री रविशंकर ने बिना समय गंवाए हटा दी अपनी चमत्कारी शक्तियों की कहानी – 19 फरवरी 13

मिथ्या

स्वामी बालेंदु श्री श्री रविशंकर की त्वरित प्रतिक्रिया के बारे में लिखते हैं। स्वामी बालेंदु ने उनके चमत्कार की इस झूठी कहानी का पर्दाफाश किया था कि किस प्रकार उनके भक्त उनकी तस्वीर के सामने रखकर अपना मोबाइल फोन चार्ज कर सकते हैं|

12