Home > Category: अहम

अहंकार – क्या यह हमारा मित्र है जोकि हमारे आत्मविश्वास को बढ़ाता है अथवा शत्रु है जोकि हमें विनम्र होने से रोकता है?

स्वामी बालेन्दु अहम् के विभिन्न स्वरूपों की चर्चा करते हैं. इस ब्लॉग में आप अपने अहंकार के सकारात्मक और नकारात्मक प्रभावों के विषय में पढ़ सकते हैं.

अहंकार किस तरह के व्यक्तित्व का निर्माण करता है तथा अहम् से उत्पन्न समस्याओं से कैसे निज़ात पाई जा सकती है!

अहं के साथ संघर्ष – स्वयं के साथ एक लगातार कशमकश? 2 अक्तूबर 2013

अहम

स्वामी बालेंदु अहं की अति से जूझते लोगों की समस्याओं के बारे में बता रहे हैं-वे बार-बार उसके विरुद्ध संघर्ष में परास्त होते हैं और साधारण मामलों को भी अपनी प्रतिष्ठा का विषय बना लेते हैं।

अभी-अभी आपके अहं पर चोट हुई है और अब आपको प्रतिक्रया देना है- आप क्या करेंगे? 1 अक्तूबर 2013

अहम

स्वामी बालेंदु अहं के चलते हड़बड़ी में की जाने वाली प्रतिक्रियाओं के बारे में समझा रहे हैं कि कैसे वह आपको मुसीबत में डाल सकती हैं। उनसे कैसे पार पाएँ-बल्कि, उनसे कैसे बचें?

अहंकार – कोई नहीं चाहता मगर सबके पास होता है- 30 सितंबर 2013

अहम

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों सबके पास अहं होता है मगर वह उसके बारे में जब भी बात करता है उनके सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं की बात करता है।