माफ कीजिए, मैं नास्तिक गुरु नहीं हो सकता – 6 अगस्त 2015

स्वामी बालेंदु इस बात का एक और कारण बता रहे हैं कि वे क्यों कभी भी एक नास्तिक संगठन की स्थापना नहीं करेंगे: किसी भी संगठन को एक ढाँचे की और परंपरा से चले आ रहे एक पुरोहिताधिपत्य की जरूरत होती है, जिसका वे हिस्सा नहीं बनना चाहते।

Continue Readingमाफ कीजिए, मैं नास्तिक गुरु नहीं हो सकता – 6 अगस्त 2015

मैं नास्तिकों का कोई संगठन या धर्म क्यों नहीं बनाउंगा! 5 अगस्त 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि क्यों, उनके मुताबिक, नास्तिकों का संगठन नहीं होना चाहिए। नास्तिकता को किस प्रकार जिया जाना चाहिए, इस विषय में उनके विचार यहाँ पढ़ें।

Continue Readingमैं नास्तिकों का कोई संगठन या धर्म क्यों नहीं बनाउंगा! 5 अगस्त 2015

नास्तिकता का प्रसार करके क्या हम दुनिया को बेहतर जगह बना सकते हैं? 4 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि वास्तव में वे क्यों इस बात की परवाह नहीं करते कि आप नास्तिक हैं या नहीं? क्योंकि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता!

Continue Readingनास्तिकता का प्रसार करके क्या हम दुनिया को बेहतर जगह बना सकते हैं? 4 अगस्त 2015

लोगों के जीवन पर धर्म और ईश्वर का प्रभाव – भारत और पश्चिमी देशों के बीच तुलना – 3 अगस्त 2015

स्वामी बालेन्दु ईश्वर और धर्म के प्रभाव के मामले में भारत और पश्चिमी देशों में हुए अपने अनुभवों के अंतर के बारे में विस्तार से लिख रहे हैं।

Continue Readingलोगों के जीवन पर धर्म और ईश्वर का प्रभाव – भारत और पश्चिमी देशों के बीच तुलना – 3 अगस्त 2015

नास्तिकों के लिए निर्णय लेना और ज़िम्मेदारी स्वीकार करना क्यों आसान होता है? 30 जुलाई 2015

स्वामी बालेन्दु स्पष्ट कर रहे हैं कि उन्होंने अक्सर यह देखा है कि आस्थावान लोगों के लिए ज़िम्मेदारी क़ुबूल करना और किसी बात पर निर्णय लेना नास्तिकों के मुकाबले ज़्यादा मुश्किल होता है। क्यों? यहाँ पढ़िए!

Continue Readingनास्तिकों के लिए निर्णय लेना और ज़िम्मेदारी स्वीकार करना क्यों आसान होता है? 30 जुलाई 2015

नास्तिक दूसरों की सहायता करने के लिए अच्छे काम करते हैं, पुण्य कमाने के लिए नहीं – 29 जुलाई 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि नास्तिक अच्छा काम इसलिए करते हैं क्योंकि वे सोचते हैं कि वह काम करना उचित है, इसलिए नहीं कि उससे उन्हें पुण्य मिलेगा या ईश्वर ने वैसा करने के लिए कहा है!

Continue Readingनास्तिक दूसरों की सहायता करने के लिए अच्छे काम करते हैं, पुण्य कमाने के लिए नहीं – 29 जुलाई 2015

यह स्पष्ट करने के लिए कि आप नीरस या असंवेदनशील नहीं हैं, अपनी नास्तिकता को सबके सामने स्वीकार कीजिए – 28 जुलाई 2015

स्वामी बालेंदु नास्तिकों से आह्वान कर रहे हैं कि वे दूसरों को अपना दृष्टिकोण स्पष्ट रूप से बताएँ और खुलकर कहें कि वे नास्तिक हैं। इस तरह, नास्तिकता को लेकर व्याप्त नकारात्मक छवि को बदला जा सकता है!

Continue Readingयह स्पष्ट करने के लिए कि आप नीरस या असंवेदनशील नहीं हैं, अपनी नास्तिकता को सबके सामने स्वीकार कीजिए – 28 जुलाई 2015

नास्तिकों की बढ़ती संख्या में बहुत बड़ा हिस्सा ईश्वर में विश्वास न रखने वाले युवाओं का है – 27 जुलाई 2015

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि आश्रम में आयोजित नास्तिकों के सम्मेलन में बड़ी संख्या में युवाओं की उपस्थिति दर्शाती है कि युवा वर्ग ही भारत और विश्व में नास्तिकों की बढ़ती आबादी का प्रतिनिधित्व करता है।

Continue Readingनास्तिकों की बढ़ती संख्या में बहुत बड़ा हिस्सा ईश्वर में विश्वास न रखने वाले युवाओं का है – 27 जुलाई 2015