Home > Category: आश्रम

आश्रम क्या है? आप वहां क्या करते हैं और वहां का जीवन कैसा होता है? क्या आप वहां मुफ्त में रह सकते हैं?

इस तरह के बहुत से सवालों के जवाब स्वामी बालेन्दु के द्वारा आपको इस ब्लॉग में पढ़ने को मिलेंगे. साथ ही वो यहाँ वृन्दावन स्थित अपने आश्रम के विषय में भी लिखते हैं.

आश्रम आने के विषय में पूछताछ का एक उदाहरण, जिसे हमने अस्वीकार कर दिया – 5 नवंबर 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु आश्रम आने की इच्छुक एक महिला के साथ हुई ईमेल बातचीत की प्रतिलिपि प्रस्तुत कर रहे हैं। उन्होंने उसे मना कर दिया-क्योंकि वह धार्मिक माहौल की तलाश में थी।

जब आश्रम आना ऐसा लगता है जैसे किसी विशाल चिड़ियाघर देखने आए हों – 20 अक्टूबर 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु आश्रम में और आश्रम के बाहर वृंदावन में घूमते हुए हर कहीं दिखाई देने वाले विभिन्न पशुओं के बारे में बता रहे हैं। अलग-अलग यात्रियों की रोचक प्रतिक्रियाओं के बारे में यहाँ पढ़िए।

‘मृत्यु के पश्चात जीवन’ (लाइफ आफ्टर डैथ) कार्यक्रम की तैयारी – 23 जुलाई 15

आश्रम

स्वामी बालेंदु आश्रम में इस सप्ताहांत होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों के बारे में बता रहे हैं, जिसका विषय है-मृत्यु उपरांत देह-दान!

सामान्य टूरिस्ट गाइडों से हम किस तरह अलग हैं? 22 जुलाई 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि वे अपना टूर गाइड व्यवसाय किस तरह चलाते हैं, कैसे यात्रियों के साथ हमारे व्यवहार में ईमानदारी, शराफत और सत्यनिष्ठा सर्वोपरि होते हैं और कैसे वे यात्री हमारे ग्राहक बनने के बाद मित्र भी बन जाते हैं।

पूरी ईमानदारी के साथ बेईमानी – भारत में टूर-गाइडों का कमीशन व्यापार – 21 जुलाई 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि किस प्रकार एक टूर-गाइड ने उनके सामने एक प्रस्ताव रखा-पूरी ईमानदारी के साथ अपने कमीशन में हिस्सेदारी! उन्होंने इंकार कर दिया। उनके बीच हुई चर्चा के बारे में यहाँ पढ़िए!

क्या भारत में टिप की अपेक्षा न रखने वाला पर्यटन-गाइड मिलना असंभव है? 20 जुलाई 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि उनके भाइयों के पास समय न होने पर मेहमानों के लिए बाहर से किसी पर्यटन-गाइड की तलाश बड़ा मुश्किल काम साबित हुआ। यह काम आसान क्यों नहीं है, यहाँ पढ़िए!

आश्रम में सेक्स और धोखा – 7 अप्रैल 2015

आश्रम

स्वामी बालेन्दु बता रहे हैं कि कैसे एक बार एक रसोइया और उसकी सहायक ने आश्रम में काम के दौरान सेक्स किया-वह भी तब जबकि वे दोनों ही दूसरे दो लोगों के साथ विवाहित थे!

3 तरह के लोग, जो हमारे आश्रम में रहना पसंद करते हैं – 12 फरवरी 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु तीन अलग-अलग तरह के लोगों के बारे में बता रहे हैं, जो आश्रम आने के बारे में पूछताछ करते हैं। पढ़िए और देखिए कि क्या आप इनमें से एक हैं और अगर हैं तो आइए, आपका स्वागत हैं!

एक अधार्मिक आश्रम धार्मिक प्रश्नों के क्या उत्तर देता है – 11 फरवरी 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु बता रहे हैं कि ऐसे लोगों की लिखित पूछताछ का, जो स्पष्ट ही उनसे मेल नहीं खाते यानी धार्मिक अपेक्षाएँ लिए हुए धार्मिक लोग, तो वे उनका क्या उत्तर देते हैं!

पूरी तरह धर्म रहित अनुभव के लिए हमारे आश्रम में आपका स्वागत है – 10 फरवरी 2015

आश्रम

स्वामी बालेंदु अपने आश्रम और दूसरे धार्मिक आश्रमों के बीच के अंतर को स्पष्ट करते हुए बता रहे हैं कि लोग क्यों उनके जैसे गैर-धार्मिक आश्रमों में आना पसंद करते हैं।