अहंकार और क्रोध से आवेशित प्रेम पवित्र नहीं होता – 9 जनवरी 2009

क्रोध

अपने पति से तलाक लेकर जीवन गुज़ार रही एक महिला से मैं मिला। उनके 10 और 12 साल की उम्र के दो बच्चे हैं। तलाक से पहले वह और उसके पति देखने वालों को एक आदर्श दंपति लगते थे। उनका एक आलीशान घर था और दोनों कलाकार थे और घर पर रहकर ही अपना काम किया करते थे। महिला उस दिन तक इस संबंध से बहुत प्रसन्न थी जिस दिन पुरुष ने बताया कि वह खुश नहीं है।

वह सोच भी नहीं सकती थी कि कभी ऐसे भी नौबत आ सकती है जब उसका और उसके पति का भविष्य साझा नहीं रहेगा। वह अपने बच्चों को लेकर घर से बाहर निकल गई। पहली बार जब बच्चे अपने पिता से मिलने उसके घर गए उन्होंने अपने खिलौने अपने साथ ले जाने चाहे मगर पिता ने इसकी इजाजत नहीं दी। उसने बच्चों से कहा, "ये खिलौने तुम्हारे हैं और जब तक तुम यहाँ रहते हो उनके साथ खेल सकते हो।" यही बात उसने बच्चों की माँ से भी कही।

जब मैं इसका विश्लेषण करता हूँ तो पाता हूँ कि पिता के लिए अपना अहं अपने बच्चों से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण था। क्यों, क्या कारण हो सकता है कि उसने अपने बच्चों को उनके खिलौने साथ ले जाने से रोक दिया जबकि उसी ने अपने बच्चों के लिए वे खिलौने खरीदे थे? वह स्वयं तो उन खिलौनों से खेलने से रहा लेकिन उसका अहं उसे मना कर रहा है, "मैंने ये खिलौने अपने पैसों से खरीदे हैं; तुम उन्हें अपनी माँ के घर नहीं ले जा सकते।" अगर वे उन्हें ले भी जाते तो उनकी माँ उन खिलौनों से खेलने वाली नहीं थी; उसी के बच्चे खेलने वाले थे। उसका अहं उसके भीतर यह भावना पैदा कर रहा है कि उसकी पूर्व-पत्नी उसकी दुश्मन है और यह भावना इतनी मजबूत है कि वह यह भी बर्दाश्त नहीं कर सकता कि उसके बच्चे उन खिलौनों के साथ खेलने का सुख प्राप्त कर सकें। मैं उसके अहं में क्रोध का भी अंश देख पा रहा हूँ। यह अपनी पूर्व-पत्नी के प्रति उसके दिल में बसा क्रोध ही है जो अपनी पत्नी को थोड़ा भी खुश देखकर शांत और प्रसन्न नहीं रह सकता। कई दूसरे मामलों में भी मैं यही बात देखता हूँ।

कभी कभी अहं और क्रोध दिल में इतना अंधकार पैदा कर देता है कि आप अपने बच्चों की खुशी की भी परवाह नहीं करते। भले ही आपके दिल में बच्चों के लिए प्रेम बरकरार है। मगर मैं यह कहना चाहूँगा कि यह प्रेम पवित्र नहीं है। यह प्रेम अहं के द्वारा संचालित है, "मैं उनसे प्यार करता हूँ क्योंकि वे मेरे बच्चे हैं। वे खुश क्यों हों जब वे अपनी माँ के साथ रहते हैं?" मैं लोगों से कहना चाहता हूँ कि कृपया अपने आपका विश्लेषण करें, अपनी अंतरात्मा को टटोलें और सुनिश्चित करें कि आपका अहं आपके प्रेम से बड़ा न हो जाए।

%d bloggers like this:
Skip to toolbar